comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मिलावटखारों की खैर नहीं, स्पॉट पर होगा टेस्ट -शुरु हुई मोबाइल फूड टेस्टिंग लैब सेवा, कमिश्नर ने दिखाई हरी झण्डी

मिलावटखारों की खैर नहीं, स्पॉट पर होगा टेस्ट -शुरु हुई मोबाइल फूड टेस्टिंग लैब सेवा, कमिश्नर ने दिखाई हरी झण्डी

डिजिटल डेस्क शहडोल । खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वालों की अब खैर नहीं। मिलावट खोरी को रोकने तथा लोगों को शुद्ध खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने के उद्देश्य से शहडोल संभाग के लिए मोबाइल फूड टेस्टिंग लैब की शुरुआत हो चुकी है। कमिश्नर नरेश पाल द्वारा मंगलवार को चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया। इस चलित प्रयोगशाला से स्पॉट पर ही इसका परीक्षण हो सकेगा कि मिलावट तो नहीं है। 
मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत दैनिक जीवन में प्रयोग होने वाले खाद्य प्रदार्थ दूध, घी, मावा, पनीर, दही, मिठाईया, मिर्च, मसाले, तेल आदि में किसी भी प्रकार की मिलावट को रोकने के लिए त्वरित परीक्षण किया जायेगा। चलित खाद्य प्रयोग शाला पूर्णत: वातानुकूलित तथा आधुनिक उपकरणो से युक्त है। इसके अंतर्गत मिल्क स्कैनर, पीएच मीटर, रेफ्रेेटोमीटर, टी.पी.आर. मीटर, पैथोलॉजिन किट के साथ बैलेंस,  मिक्स ग्राइडर, हाट एयर ओवन गैस सिलेण्डर, कम्प्यूटर, प्रिंटर आदि उपलब्ध है। जिनकी सहायता से खाद्य प्रदार्थो का प्रारंभिक परीक्षण किया जाएगा।
67 प्रकार के खाद्य पदार्थों की होगी जांच
रवानगी के पूर्व चलित खाद्य प्रयोग शाला की कार्य पद्धति एवं बारीकियों से कमिश्नर रूबरू हुए। चलित खाद्य परीक्षण प्रयोग शाला में उपलब्ध टेलीवीजन एवं लाउडस्पीकर की मदद से आम नागरिको को खाद्य प्रदार्थो में मिलावट का तत्काल परीक्षण कराने के लिए प्रयोग की सुविधा का उपयोग करने के लिए जागरूक किया जायेगा। आम नागरिक मात्र 10 रूपये शुल्क जमा कराकर खाद्य प्रदार्थो में होने वाली मिलावट की जॉच करा सकेंगे। इस प्रयोग शाला में 67 प्रकार के खाद्य प्रदार्थो की जांच की जायेगी। उप संचालक खाद्य एवं औषधि प्रशासन डॉ. राजेश पाण्डेय ने बताया कि चलित प्रयोगशाला के मैजिक बॉक्स के द्वारा खाद्य सुरक्षा अधिकारी खाद्य प्रतिष्ठानो में हो रही खाद्य प्रदार्थो की जांच करेंगे। प्रारंभिक रूप से मिलावट पाये जाने पर उन खाद्य प्रदार्थो के विधिवत नमूने लेने की कार्रवाई अथवा सुधार सूचना जारी कर सुधार कराया जायेगा तथा 102 प्रकार के प्रारंभिक परीक्षण किए जाएंगे।
पहले दिन 11 प्रतिष्ठानों की जांच
चलित प्रयोगशाला के माध्यम से पहले दिन मंगलवार को शहर के 11 प्रतिष्ठानों की जांच की गई। खाद्य एवं औषधि निरीक्षक बृजेश विश्वकर्ता ने बताया कि पंजाब डेयरी, न्यू कलकत्ता डेयरी, आहूला मार्केट में कलकत्ता डेयरी, शिव डेयरी, हीरा स्वीट्स, गुरुकृपा डेयरी, छप्पन भोग, मारुति डेयरी, बबलू डेयरी व अराधना डेयरी में खाद्य पदार्थों की जांच की गई। उन्होंने बताया कि छप्पन भोग दुकान में पेड़ा अमानक स्तर का पाए जाने पर सुधार सूचना पत्र जारी किया गया है।
 

कमेंट करें
nuyfI
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।