दैनिक भास्कर हिंदी: अब हाईकोर्ट के साथ ही नागपुर के सभी कोर्ट सौर ऊर्जा से होंगे रोशन

September 19th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नित नए प्रयोगों के लिए मशहूर बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच ने एक और नई पहल की है। हाईकोर्ट परिसर में सौर्य ऊर्जा उत्पादन के लिए रूफ टॉप सोलर प्रकल्प लगाया जा रहा है, जो करीब 200 किलाे वॉट की बिजली तैयार करेगा। सोमवार को इस प्रकल्प का औचारिक भूमिपूजन जस्टिस भूषण गवई, जस्टिस भूषण धर्माधिकारी और राज्य के ऊर्जा मंत्री और नागपुर जिले के पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले के हाथों हुआ। इस दौरान बावनकुले ने घोषणा की कि सरकार सौर्य ऊर्जा से बिजली उत्पादन बढ़ाकर 2000 मेगवॉट करना चाहती है।

इसी दिशा में नागपुर बेंच ही नहीं बल्कि नागपुर शहर के विविध न्यायालयों में इस तरह के रूफ टॉप सोलर प्रकल्प लगाए जाएंगे। इसी तरह कोर्ट परिसर में LED लाइट भी लगाकर दिए जाएंगे। उन्होंने इस दौरान उन्होंने ऊर्जा विभाग को इस दिशा में प्रस्ताव तैयार करने के भी आदेश दिए। उल्लेखनीय है कि नागपुर बेंच प्रशासन को हर वर्ष करीब 40 लाख रुपए का बिल भरना पड़ता। इस प्रकल्प के जरिए खपत और खर्च कम करने का लक्ष्य रखा गया है। दावा किया जा रहा है कि इस प्रकल्प के शुरू होने के बाद 24 हजार यूनिट बिजली निर्मित होगी और हर माह कुल 2 लाख 76 हजार रुपए की बचत होगी। शुरुआत में यह करीब 1 करोड़ 58 लाख रुपए का अनुमानित प्रकल्प था। अंतत: 1 करोड़ 18 लाख में इसे पूर्ण करने का टेंडर पास किया गया है। 

सभी न्यायालयों में लगे यह प्रकल्प
उद्घाटन कार्यक्रम में उपस्थित जस्टिस भूषण गवई ने इस उपक्रम की सराहना करते हुए कहा कि सौर्य ऊर्जा से न केवल बिजली और पैसे की बचत होती है, बल्कि यह ऊर्जा के सबसे स्वच्छ स्वरूपों में से एक है। राज्य भर के सभी न्यायालयों में इस तरह के प्रकल्प शुरू होने चाहिए। इसी तरह जस्टिस भूषण धर्माधिकारी ने अपने संबोधन में कहा कि आने वाले  वक्त में साैर्य ऊर्जा का ही बोलबाला होगा। इसे और अधिक व्यापक बनाने से समाज और पर्यावरण का फायदा होगा। कार्यक्रम की प्रस्तावना जिलाधिकारी अश्विन मुद्गल ने रखी। कार्यक्रम में एचसीबीए अध्यक्ष अनिल किल्लोर, बार एसोसिएशन पदाधिकारी, विधायक मल्लिकार्जुन रेड्डी व अधिष्ठाताओं की बड़ी संख्या में उपस्थिति थी। संचालक एचसीबीए उपाध्यक्ष पुरुषोत्तम पाटिल ने किया। आभार प्रदर्शन महाऊर्जा के क्षेत्रिय संचालक सारंग महाजन ने किया।