दैनिक भास्कर हिंदी: ट्रेनों में किन्नरों से परेशान हो रहे यात्री , अवैध वेन्डर भी बेच रहे खाना

November 7th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  इन दिनों ट्रेनों में किन्नरों से यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आये दिन नागपुर स्टेशन आउटर पर धीमी होनेवाली गाड़ियों में चढ़कर जनरल व स्लीपर कोच के यात्रियों को  किन्नरों द्वारा परेशान किया जाता है। रही सही कसर अवैध वेन्डर निकाल रहे हैं।  आरपीएफ की ओर से इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। जिससे यात्रियों को सफर करने में परेशानी हो रही है।

नागपुर स्टेशन से रोजाना एक सौ से अधिक गाड़ियां विभिन्न दिशा में जाती है। यह गाड़ियां स्टेशन आने से पहले व स्टेशन से निकलने के बाद आउटर पर धीमी रफ्तार से निकलती है। जिसका फायदा किन्नर व अवैध वेन्डर उठा रहे हैं। बताया गया कि त्रिवेंद्रम-गोरखपुर राप्तीसागर एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, आजाद हिंद एक्सप्रेस, हावडा-कुर्ला, हावड़ा-मुंबई मेल, विदर्भ एक्सप्रेस जैसी गाड़ियों में इनकी मौजूदगी देखने मिल रही है। यात्रियों से पैसों की मांग करते हैं। पैसा नहीं देने पर भद्दी –भद्दी गालियां भी देते हैं। यही नहीं अभद्र व्यवहार भी करते हैं। हालांकि इन पर कोई कार्रवाई की जहमत नहीं उठा रहा है। यही नहीं अवैध वेन्डरों का कारोबार भी खूब फल-फूल रहा है। भीड़ से भरी जनरल बोगियों में अवैध वेन्डर चाय, समोसे से लेकर बिरयानी बेच रहे हैं। नागपुर से आउटर से दिल्ली लाइन पर इटारसी तक, मुंबई लाइन पर बडनेरा तक वही हावड़ा लाइन पर गोंदिया तक बहुतांश ट्रेनों में इनकी मौजूदगी देखने मिलती है।

झगड़ा भी होते रहता है  
कुछ किन्नरों द्वारा पैसों की मांग करने के बाद यात्री पैसे नहीं देते हैं। ऐसे में इनके द्वारा यात्रियों से झगड़ा किया जाता है। रोजाना बुटीबोरी के लिए अप डाउन करनेवाले यात्री अभिषेक कुमार ने बताया कि, मंगलवार को नागपुर के लोहा पुल से जानेवाली हावड़ा-मुंबई गीतांजली एक्सप्रेस में यात्रियों के व किन्नरों के बीच काफी देर तक विवाद चला। जिसमें कुछ किन्नरों ने गाड़ी की चैन पुलिंग भी की थी। इस बीच काफी यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा था।

अवैध वेन्डरों से जहरखुरानी का खतरा 
गाड़ियों में अवैध वेन्डरों द्वारा पुराया जानेवाला खाना सुरक्षित है या नहीं इसका कोई प्रमाण नहीं है। ऐसे में यात्रियों के लिए यह खाना कभी-भी जहरखुरानी का कारण बन सकता है।

 कार्रवाई की जाएगी
उपरोक्त मामलों को संभालने के लिए हमारे पास से स्पेशल टीम गठित की गई है। ऐसे में इस तरह के वाक्या होना नहीं चाहिए। यदि ऐसा हो रहा है, तो हमारी ओर से एक्शन लिया जाएगा। -- भवानी शंकर नाथ, वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त, आरपीएफ, मध्य रेलवे नागपुर

खबरें और भी हैं...