- मरीज के परिजनों में आक्रोश, आरोप-चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी नशे में कर रहे ड्यूटी:  टीबी वार्ड में तड़प रहे मरीज, ऑक्सीजन सिलेंडर का बॉल्व खोलने स्टाफ तक नहीं

October 21st, 2021

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। मेडिकल कॉलेज से सबद्ध जिला अस्पताल के टीबी वार्ड में अव्यवस्था के बीच मरीज परेशान है।  एक महिला मरीज की हालत गंभीर होने पर डॉक्टर ने उन्हें सीटी स्केन कराने की सलाह दी थी। मरीज को ऑक्सीजन सपोर्ट की मदद से सीटी स्केन रूम तक ले जाना था, लेकिन पूरा स्टाफ वार्ड से गायब था। मरीज के परिजनों का आरोप है कि चतुर्थ श्रेणी स्टाफ शराब के नशे में ड्यूटी कर रहा है। खिरकापुरा निवासी पंकज सोनी ने बताया कि उनकी मौसी 60 वर्षीय दुलारी पति ओमप्रकाश सोनी को टीबी वार्ड में भर्ती कराया गया था। बिना ऑक्सीजन सपोर्ट के वे बिस्तर से उठ भी नहीं पा रही थी। डॉक्टर की सलाह पर बुधवार शाम लगभग पांच बजे उन्हें सीटी स्केन के लिए ले जाना था। परिजनों ने वार्ड बॉय और स्टाफ से ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग की, लेकिन उन्हें सिलेंडर उपलब्ध नहीं कराया गया। परिजनों ने जैसे-तैसे वार्ड में रखा ऑक्सीजन सिलेंडर बेड तक लाया, लेकिन उनसे सिलेंडर का बॉल्व नहीं खुला। हंगामे और प्रबंधन से शिकायत के लगभग एक से दो घंटे बाद व्यवस्था बन पाई।  
स्टोर रूम की चाबी गायब-
महिला मरीज के परिजनों ने व्हील चेयर की मांग की तो पता चला कि स्टोर रूम की चाबी भी नर्सिंग स्टाफ के पास नहीं है। नर्सिंग स्टाफ ने मरीज के परिजनों से कहा कि ताला तोडकऱ अंदर रखी व्हीलचेयर निकाल लें।
ओपीडी पर्ची के लिए भटकते रहे मरीज-
बुधवार को दो घंटे के लिए जिला अस्पताल की ओपीडी खोली गई थी।  ओपीडी काउंटर पर सिर्फ एक ऑपरेटर होने से पर्ची के लिए मरीजों को परेशान होना पड़ा। काउंटर पर भीड़ होने से अधिकांश मरीजों की ओपीडी पर्ची ओपीडी टाइमिंग तक नहीं कट पाई।
शिकायत मिलने पर वार्ड में पहुंचे सीएस-
मरीज के परिजनों से शिकायत मिलने पर सिविल सर्जन डॉ.शिखर सुराना ने बुधवार शाम को वार्ड में पहुंचकर व्यवस्था बनाई। डॉ.सुराना का कहना है कि लापरवाह स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


 

खबरें और भी हैं...