दैनिक भास्कर हिंदी: बाघ की खाल के साथ पकड़े गए छह शिकारी, सतपुड़ा नेशनल पार्क से किया था शिकार

January 25th, 2019

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। कोतवाली पुलिस ने छह शिकारियों को बाघ की खाल और अंगों के साथ गिरफ्तार किया है। बाघ का शिकार करने वाले गिरोह से बाघ की खाल के साथ बाघ के पंजे, दांत समेत अन्य अंग जब्त किए गए हैं। शिकारियों ने सतपुड़ा नेशनल पार्क के प्रतिबंधित क्षेत्र से बाघ का शिकार किया था। पुलिस ने गिरोह के छह शिकारियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

पुलिस अधीक्षक मनोज राय ने बताया कि कोतवाली पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर गुरुवार को ईमलीखेड़ा रिंग रोड से बालाजी नगर निवासी स्नेह पिता नारायण सरेयाम को बाघ की खाल के साथ पकड़ा था। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने अपने साथियों के साथ मिलकर सतपुड़ा नेशनल पार्क के कांजीघाट के जंगल से बाघ का शिकार किया था। स्नेह से पूछताछ के बाद पुलिस ने खटुआढाना निवासी 50 वर्षीय लखन भारती, झोंत निवासी 40 वर्षीय ब्रजकिशन भारती, चोपना नवलगांव निवासी 60 वर्षीय सत्यनारायण यादव, होशंगाबाद के पिपरिया निवासी 45 वर्षीय छोटेलाल उईके, पचमढ़ी निवासी बद्री प्रसाद भारती को गिरफ्तार किया है।

जहर देकर किया था शिकार
एसपी मनोज राय ने बताया कि स्नेह से पूछताछ में खुलासा हुआ कि उसने अपने साथियों के साथ मिलकर मवेशी के मांस में जहर डालकर जंगल में रखा था। जहरीला मांस खाने से मरे बाघ की खाल उन्होंने निकाल ली और उसे बेचने का प्रयास कर रहे थे।  

खाल की दस लाख रुपए कीमत
शिकारियों से जब्त बाघ की खाल की कीमत वन विभाग द्वारा दस लाख रुपए आंकी जा रही है। शिकारियों से बाघ की एक खाल, बाघ के पंजे, नाखून, मूंछ के बाल, कुल्हाड़ी, खुरपी जब्त की गई।

बड़े गिरोह का हो सकता है खुलासा
बाघ का शिकार करने वाले इस गिरोह से पूछताछ में अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का सुराग लगने की संभावना जताई जा रही है। एसपी मनोज राय ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ कर गिरोह के अन्य सदस्यों की जानकारी जुटाई जा रही है।

टीम होगी पुरुस्कृत
एसपी मनोज राय और एएसपी शशांक गर्ग ने पत्रकारवार्ता में बताया कि शिकारियों की धरपकड़ करने वाली टीम में कोतवाली टीआई समरजीत सिंह परिहार, एएसआई राघवेन्द्र उपाध्याय, प्रधान आरक्षक ओमप्रकाश मालवीय, आरक्षक लीलाधर, परवेज आजमी और सैनिक जीवन चौरे शामिल है। जिन्हें नकद राशि से पुरस्कृत किया जाएगा।