दैनिक भास्कर हिंदी: पार्षद पुत्र की हत्या के बाद होश में आयी पुलिस, नशा के सौदागरों के ठिकानों पर दबिश  

January 4th, 2020


डिजिटल डेस्क शहडोल। जिले में नशे का कारोबार बड़े शहरों की तर्ज पर चलने लगा है। पुलिस कार्रवाई करती है, लेकिन कुछ दिनों बाद फिर से ये कारोबार सिर उठा लेता है। आलम यह है कि अल्पायु के किशोर व युवा नशे की गिरफ्त में तेजी से आते जा रहे हैं। नशे के आदी हत्या जैसा अपराध करने तक उतारू हो जाते हैं। गत दिवस पार्षद पुत्र की हत्या की वारदात ने लोगों को चिंता में डाल दिया है। वारदात में शामिल युवक नशे के आदी पाए गए। पुलिस अधीक्षक की माने तो आगामी कुछ दिनों में शहर ही नहीं जिले से इस कारोबार को जड़ से साफ करने का प्रयास किया जाएगा।  
घर में दबिश, सीरप किया जब्त-
अभियान के पहले ही दिन कोतवाली पुलिस ने नशे के रूप में इस्तेमाल किया जाने वाला सीरप जब्त किया है। टीआई ने बताया कि मोदी नगर निवासी असद अली नशीली दवाओं का तस्कर है। बीती रात उसके घर में दबिश दी गई, लेकिन वह पीछे के रास्ते से भाग निकला। घर की तलाशी ली गई, जहां 22 नग आनेक्स कंपनी का सीरप पाया गया, जिसे जब्त किया गया। इस मामले में असद की पत्नी अफसरी उर्फ ज्योति शुक्ला के विरुद्ध धारा 5/13 ड्रग कंट्रोल एक्ट का अपराध दर्ज किया गया।
6 माह में हुए 26 मामले-
जिले में नशाली दवाओं के मामले में बीते 6 माह के दौरान 26 से अधिक प्रकरण दर्ज हो चुके हैं। जून 2019 से दिसंबर तक नशीली दवाओं के मामले में 26 लोगों के विरुद्ध कार्रवाई हो चुकी है। इनमें 5 प्रकरण जून माह के पहले के हैं। इनमें से 11 मामले अकेले कोतवाली क्षेत्र में सामने आए। इसी प्रकार गांजा तस्करी 32 मामले 6 महीने में सामने आए। इनमें 388 किलो से अधिक गांजा की जब्ती की गई। सबसे ज्यादा 11 प्रकरण कोतवाली में दर्ज किए गए। सोहागपुर थानांतर्गत 6, जयसिंहनगर, ब्यौहारी, गोहपारू व जैतपुर में 2-2 प्रकरण सामने आ चुके हैं। इस कार्रवाई के बाद भी जिलेे में बड़े पैमाने पर नशे का कारोबार हो रहा है। पुलिस ने कार्रवाई तो की लेकिन उन ठिकानों और कारोबारियों तक नहीं पहुंच पाई जो इसकी आपूर्ति करते हैं।
चिन्हित किए अवैध ठीहे-
एसपी की हिदायत और निर्देश के बाद कोतवाली व जिले की थाना पुलिस द्वारा उन ठीहों को चिन्हित कर लिया गया है, जहां से नशीली दवाइयों की आपूर्ति की जाती है। सूत्रों के अनुसार शहर में दर्जन भर ऐसे ठिकाने हैं जहां से नशे का कारोबार संचालित किया जा रहा है। वहीं कोतवाली टीआई रावेंद्र द्विवेदी के अनुसार एसपी के मार्गदर्शन में कार्रवाई शुरु कर दी गई है। कोतवाली अंतर्गत लगभग 6 ठिकानों को चिहिन्त कर लिया गया है, जहां से इसकी बिक्री की जाती है। कुछ ही दिनों में कार्रवाई की जाएगी।
10 दिन में पेश करेंगे चार्जशीट-
पार्षद पुत्र अक्षत सोनी की हत्या के मामले में कोतवाली पुलिस अधिकतम 10 दिन में चार्जशीट पेश करने की तैयारी में है। टीआई ने बताया कि तीनों आरोपियों की पुलिस रिमांड शुक्रवार को समाप्त हो गई। पूछताछ में यही सामने आया कि किशोर की हत्या की वजह सोने की चेन व लॉकेट ही रहा। उन्होंने बताया कि न्यायालय में अतिशीघ्र चार्जशीट पेश करने का मकसद यही है कि आरोपियों को कड़ी सजा मिल सके और ऐसे कारोबार से जुड़े व नशे के आदी लोगों को सबक मिल सके।
इनका कहना है-
 नशे के कारोबार पर प्रभावी अंकुश लगाने जिले के सभी थानों को निर्देशित कर दिया है। विशेष अभियान चलाया जा रहा है।
अनिल कुमार कुशवाह, एसपी

खबरें और भी हैं...