comScore

ऑनलाइन क्लासेस में हिस्ट्री के प्रोफेसर से हुई बदतमीजी, छात्राओं पर भी किए गए भद्दे कमेंट्स

ऑनलाइन क्लासेस में हिस्ट्री के प्रोफेसर से हुई बदतमीजी, छात्राओं पर भी किए गए भद्दे कमेंट्स

तीन दिनों तक ऑनलाइन क्लासेस में हुई ये हरकत, कॉलेज प्रबंधन ने थाने में की लिखित शिकायत
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा ।
पीजी कॉलेज की हिस्ट्री की ऑनलाइन क्लास में प्रोफेसर्स से बदतमीजी और छात्राओं पर भद्दे कमेंट्स कसने की घटना सामने आई है। तीन दिनों तक असामाजिक तत्वों ने पूरी क्लास को परेशान किया था। आखिर कॉलेज प्रबंधन ने धरमटेकड़ी चौकी में लिखित शिकायत  की। पुलिस ने तो अब तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की, लेकिन शिकायत की सूचना मिलने पर यह अभद्रता बंद हो गई।
जानकारी अनुसार घटना पिछले सप्ताह की है। जब पीजी कॉलेज की हिस्ट्री की ऑनलाइन क्लास चल रही थी। हिस्ट्री के दो प्रोफेसर स्टूडेंट्स को  पढ़ा रहे थे। तभी जूम एप की लिंक हासिल कर कुछ असामाजिक तत्वों ने  क्लास ज्वाइन की। प्रोफेसर्स से अभद्रता की गई, उन्हें अपशब्दों से अपमानित किया गया। एक प्रोफेसर ने जब इन युवकों को ऐसा करने से मना किया तो छात्राओं पर भद्दे कमेंट्स करते हुए मैसेज भेजे। 3 अक्टूबर को पहली बार हुई इस घटना के बाद 5 और 6 अक्टूबर को भी असामाजिक तत्वों ने ऐसी ही हरकतें की थी। परेशान होकर एक प्रोफेसर ने तो क्लास लेने से ही इनकार कर दिया था। सीनियर प्रोफेसर ने कॉलेज प्राचार्य से शिकायत की, कॉलेज स्तर पर हुई तफ्तीश के बाद प्रबंधन ने एक लिखित शिकायत धरमटेकड़ी चौकी में की है।
जिम्मेदार अफसरों का जवाब- एप बदल लो सर
इस मामले में कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि धरमटेकड़ी चौकी में लिखित शिकायत की गई थी। चौकी में मौजूद पुलिस अफसर से मामले को गंभीरता से जांच करने का आग्रह किया गया था। इस शिकायत पर जिम्मेदार पुलिस अफसरों का जवाब था कि आप यह जूम एप की जगह कोई नई एप्लीकेशन का उपयोग कर लो सर।
स्क्रीन शॉट में आरोपियों के ये नाम हो रहे थे फ्लैश
कॉलेज प्रबंधन ने ऑनलाइन क्लासेस के दौरान हुई अभद्रता की शिकायत के साथ जो स्क्रीन शॉट पुलिस को सौंपे हंै, उसमें 8 नाम फ्लैश हो रहे थे। कॉलेज की अंदुरूनी पड़ताल में ये आठ युवक कॉलेज के स्टूडेंट नहीं निकले। कॉलेज प्रबंधन ने शिकायत में जो मोबाइल नंबर दर्ज किए हैं, वे राघव जैन, करन गनेरीवाल, जसप्रीत सिंह पंजाबी, साहिल सैनी, कुलदीप सिंह, बलकर सिंह, आनंद लोखंड़े के नाम से स्क्रीन पर फ्लैश हो रहे थे।
इनका कहना है
॥प्रोफेसर्स की शिकायत आई थी, मामला गंभीर होने पर तुरंत ही पुलिस में शिकायत दर्ज कराने भेजा गया था। बाहरी व्यक्ति के पास लिंक कैसे पहुंची यह जांच का विषय है। कॉलेज छात्र की मिलीभगत का संदेह है। एहतियात के तौर पर क्लासेस में सभी बच्चों को सावधान किया गया है।
-डॉ. अमिताभ पांडे, प्रभारी प्राचार्य पीजी कॉलेज
॥मैरे संज्ञान में यह मामला नहीं है। चौकी प्रभारी ही ज्यादा बेहतर बात सकेंगे। मैं भी जानकारी जुटाने के साथ मामले की जांच कराता हूं।
-महेंद्र मिश्रा, प्रभारी थाना कुंडीपुरा

कमेंट करें
OoH5C