comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

विदेशों की तर्ज पर कपिलधारा और सोनमूड़ा में कांच के पुल बनाने का प्रस्ताव 

विदेशों की तर्ज पर कपिलधारा और सोनमूड़ा में कांच के पुल बनाने का प्रस्ताव 

डिजिटल डेस्क शहडोल  अनूपपुर। आने वाले 2 वर्षों में पवित्र नगरी अमरकंटक का स्वरूप पूरी तरह से बदल जाएगा। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय द्वारा प्रशाद योजना के तहत 49 करोड़ 98 लाख रुपए अमरकंटक के विकास के लिए दिए गए हैं। गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद सिंह पटेल मौजूदगी में योजना के तहत होने वाले विकास कार्यों का शिलान्यास किया। 
इस दौरान मिनी स्मार्ट सिटी योजना के तहत 8.01 करोड़ लागत से हुए विकास कार्यों का लोकार्पण तथा 24.92 करोड़ की लागत के विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण भी किया गया। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय द्वारा नर्मदा एवं सोन नदी के उद्गम क्षेत्र में दर्शनार्थियों की सुविधा एवं पर्यटन के विकास के लिए कार्य कराए जाएंगे। विकास कार्यों को 2 वर्ष में अमलीजामा पहनाया जाएगा। इसका क्रियान्वयन मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा किया जाएगा। इस दौरान खाद्य, नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह, पर्यटन मंत्री सुश्री उषा बाबू सिंह ठाकुर, आदिम जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह एवं शहडोल सांसद हिमाद्रि सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।
38.23 लाख की लागत से लगेगा फिल्टर प्लांट, रंग-बिरंगी रोशनी से जगमगाएगा उद्गम स्थल
योजनांतर्गत नर्मदा उद्गम मंदिर में 4.12 करोड़ रुपए की लागत से सौंदर्यीकरण, संरक्षण एवं दर्शनार्थियों की सुविधा के कार्य किए जाएंगे। कुंड के जल शुद्धिकरण के लिए 38.23 लाख लागत का फिल्टर प्लांट एवं ग्रैविटी फिल्टर बेड लगेगा। 12.11 लाख से सोलर पैनल लगाया जाएगा। नर्मदा उद्गम मंदिर एवं कल्चुरी मंदिर परिसर में 1 करोड़ 62 लाख की लागत से मोनोक्रोमैटिक लाइटिंग की जाएगी। परिक्रमा वासियों के लिए 55.33 लाख की लागत से किचन एवं भोजन परिसर व्यवस्था होगी। इसके अलावा लैंडस्केपिंग, प्रवेश द्वार एवं परिसर के सौंदर्यीकरण के कार्य 17 करोड़ 72 लाख की लागत से किए जाएंगे। सोनमुड़ा एवं कपिलधारा में 75 लाख रुपए की लागत से व्यू प्वाइंट का कार्य किया जाएगा।   
नर्मदा महोत्सव पर किया कटाक्ष
गत वर्ष तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ की उपस्थिति में नर्मदा महोत्सव की शुरुआत की गई थी जिस पर कटाक्ष करते हुए शिवराज सिंह ने कहा कि नर्मदा महोत्सव के नाम पर हुड़दंग महोत्सव किया गया था जिसका परिणाम भी जल्द ही सामने आ गया। नर्मदा पुत्रों की उपेक्षा और हुड़दंग का परिणाम यह निकला कि सरकार ही चली गई। जिसकी रूपरेखा भी नर्मदा महोत्सव में ही तय हो गई थी। इस वर्ष भी नर्मदा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा किंतु उसका स्वरूप धार्मिक और सांस्कृतिक होगा जिसके लिए उन्होंने कलेक्टर को निर्देशित किया कि कार्य योजना बनाकर अवगत कराएं।

कमेंट करें
w1PXi
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।