दैनिक भास्कर हिंदी: लॉकअप से रेप का आरोपी फरार

August 2nd, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अजनी थाने के लॉकअप से रेप केस का एक आरोपी फरार हो गया। उसका नाम निखिल नंदनकर है। एक किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने के मामले में उसे गिरफ्तार किया गया था।  पुलिस सूत्रों के अनुसार, 2 जून को अजनी थानांतर्गत एक 17 वर्षीय किशोरी लापता हो गई थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार अजनी पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज किया। प्रकरण की जांच पांचपावली थाने के बोंडे को सौंपी गई थी। पांचपावली थाने के प्रोबेशनरी (प्रशिक्षणार्थी) पुलिस उपनिरीक्षक बोंडे ने भांडेवाड़ी परिसर से आरोपी निखिल चैतराम नंदनकर (27) को गिरफ्तार कर अजनी पुलिस को सौंपा था।

इसलिए किया था गिरफ्तार

आरोपी निखिल उसे शादी का झांसा देकर भगा ले गया था। उसने किशोरी के साथ दुष्कर्म भी किया। अजनी थाने में आरोपी पर अपहरण का मामला तो पहले ही दर्ज था। पुलिस ने दुष्कर्म की धारा बढ़ाकर निखिल को गिरफ्तार किया। बुधवार रात 8.30 बजे निखिल को अजनी थाने की लॉकअप में बंद किया गया था। लॉकअप के सामने तैनात महिला पुलिस सिपाही वनिता जुनघरे  नाकाबंदी के लिए जा रहे पुलिसकर्मियों को वॉकी-टाकी देने गई और फिर वहां से वॉशरूम चली गई। उसे लगा कि लॉकअप का दरवाजा बंद है, तभी मौका पाकर निखिल लॉकअप से भाग निकला। वह डीबी रूम की तरफ के दरवाजे से बाहर निकल गया और किसी को पता तक नहीं चला। 

मामले को दबाने का प्रयास

आरोपी निखिल ने जिस किशोरी के साथ दुष्कर्म किया, वह इवेंट का काम करती है। वह 2 जून को काम के पैसे लेने घर से निकली तो वापस नहीं लौटी। करीब दो हफ्ते तक उसकी मां ने अपने स्तर पर तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। 16 जून को पीड़िता की मां ने उसके गायब होने की शिकायत अजनी थाने में दर्ज कराई। उसके बाद यह मामला बोंडे को सौंपा गया। बुधवार को निखिल को उसके ही घर से पुलिस ने धर-दबोचा। वह विवाहित है। उसने यह बात पीड़िता से छिपाई और प्रेमजाल में फांस लिया था। आरोपी के  फरार होने पर अजनी पुलिस को पहले तो लगा िक वह मिल जाएगा, जब नहीं िमला तो मामले को दबाने का भी प्रयास किया गया, लेकिन अंत में मामला उजागर हो गया।

मौका मिलते ही फरार

वॉशरूम से  लौटने पर लॉकअप का गेट खुला देखकर महिला सिपाही के होश उड़ गए। आरोपी निखिल गायब हो चुका था।  उसने घटना की जानकारी अधिकारियों को दी। पुलिस ने निखिल की काफी देर तक तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। कहा जा रहा है कि लॉकअप के गेट पर ताला तो लगाया गया था, लेकिन अंदर की कुंडी  (चिटकनी) ठीक तरह से नहीं फंसी थी। चर्चा यह भी है कि लॉकअप को ताला नहीं लगाया गया था। यह बात आरोपी के ध्यान में आ चुकी थी और वह  मौका मिलते ही लॉकअप से गायब हो गया। निखिल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।  

खबरें और भी हैं...