कृषि विकास: सागर-नागपुर रेल परियोजना से हेल्थ और वेल्थ में होगा सुधार

February 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। वातावरण अनुकूल फसल उत्पादन को बढ़ावा देने का आह्वान करते हुए राज्यसभा सदस्य कैलाश सोनी ने कहा है कि कृषि विकास के लिए परिवहन व्यवस्था सुलभ होना भी आवश्यक है। मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड व महाकौशल जैसे क्षेत्रों की विकास योजनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के कई हिस्सों के लिए नागपुर हेल्थ राजधानी है। सागर-नागपुर रेल परियोजना की लंबित मांग यदि पूरी होती है, तो हेल्थ और वेल्थ दोनों में फायदा होगा। इससे मध्यप्रदेश के कई गांवों को विकास की धारा से सीधे जुड़ने का मौका मिलेगा। दक्षिण छोर के राज्यों के औद्योगिक शहरों से भी सीधा जुड़ाव होगा। उन्होंने हाल ही में यह मुद्दा राज्यसभा में उठाया और हाईपॉवर कमेटी के सामने भी रखा। उन्होंने बताया कि महाकौशल क्षेत्र विकास के लिए गुड़ व तुअर निर्यात की योजना पर जोर दिया जा रहा है। मध्य प्रदेश से राज्यसभा सदस्य सोनी लोकतंत्र सेनानी संघ के अध्यक्ष भी हैं। शुक्रवार को दैनिक भास्कर कार्यालय में उन्होंने विविध विकास योजनाओं पर चर्चा की। 

रेल मार्ग से जुड़ेंगे 4 हजार गांव : सागर से नागपुर तक ट्रेन चले, तो बुंदेलखंड के 4000 गांव रेल मार्ग से जुड़ जाएंगे। मध्य प्रदेश में रेल परियोजनाओं के लिए केंद्र सरकार ने सहायता भी की है। मध्य प्रदेश को रेल सेवाओं के लिए 12 हजार करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं। सालों से विचाराधीन रेल परियोजनाओं के बारे में रेलमंत्री अश्विन वैष्णव से चर्चा की गई है। सोना कारीगर को राहत दिलाने के लिए भी कार्य किया जा रहा है। 18, 20 व 22 कैरेट को मंजूरी दी गई है। 

गुड़ के निर्यात को बढ़ावा : सोनी ने बताया कि नरसिंहपुर जिले के गुड़ की बाजार में अच्छी मांग है। वहां का गुड़ निर्यात भी किया जाता रहा है। खासकर करेली का गुड़ प्रसिद्ध है। भोपाल, इंदौर के बाजार के बाद रेलवे में भी करेली का गुड़ भेजा जा रहा है। गुड़ के निर्यात को फिर से बढ़ावा दिया जा रहा है। वर्गीकरण के लिए भोपाल में एजेंसी बनाई गई है। गाडरवाड़ा क्षेत्र से तुअर व बैगन कोलकाता तक भेजे जा रहे हैं। यहां के तुअर व बैंगन विश्व प्रसिद्ध हैं।