comScore

2 हजार बचाने आग से घिरे मकान में घुसा, बाहर निकल ही नहीं पाया

2 हजार बचाने आग से घिरे मकान में घुसा, बाहर निकल ही नहीं पाया

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शार्ट-सर्किट से घर में आग लग गई। अलमारी में रखी नकदी निकालने के चक्कर में एक पेंटर की जान चली गई। मृतक का नाम नवीन बनोदे है। घटना शुक्रवार की रात 12.15 बजे गणेश चौक के पास हुई।  पुलिस के अनुसार, जूनी शुक्रवारी भोला गणेश चौक के पास  नवीन नरेंद्र बनोदे (39) का मकान था। मकान में पत्नी सुषमा, 15 वर्षीय बेटा यश, 6 वर्षीय बेटी और भाई प्रवीण बनोदे तथा परिवार के साथ नवीन रहता था। वह पेंटिंग का काम करता था। दोनों भाइयों की आर्थिक स्थिति ज्यादा ठीक नहीं थी। मकान पुराना होने से जर्जर हो गया था। शुक्रवार देर रात अंदर शार्ट-सर्किट से मकान में आग लग गई। सागौन की लकड़ियां लगी होने से आग तेजी से फैल गई। दोनों भाइयों ने पहले परिवार को बाहर िनकाला, फिर दमकल विभाग को सूचना दी। दमकल के आने से पहले नवीन घर की आलमारी में रखे 2-3 हजार रुपए बचाने के चक्कर में अंदर चला गया। खोलते ही अलमारी नवीन पर गिर पड़ी, जिससे वह उसके नीचे दब गया। वह शोर मचाने लगा, लेकिन आग के कारण बेबस परिवार के लोग उसे बचा नहीं पाए। दमकल विभाग के 7-8 वाहन घटनास्थल पर पहुंचे, लेकिन नवीन को जीवित नहीं बचाया जा सका। नवीन पूरी तरह जल चुका था। उसे दमकल कर्मियों ने बाहर निकाला। मकान मलबे में तब्दील हो चुका है।

परिवार के लोग रोकते रहे 

सूत्रों के अनुसार, आग की लपटें देखकर नवीन बनोदे का परिवार उसे अंदर जाने से रोकता रहा, लेकिन वह अंदर चला गया। घटना के बाद क्षेत्र की एक नगरसेविका मौके पर पहुंची थीं, इनके अलावा यहां पर कोई नेता या जनप्रतिनिधि नहीं पहुंचा। इस बात को लेकर नागरिकों में काफी रोष देखा गया। 

क्षेत्र का सर्वे कराने की गुजारिश 

क्षेत्र के नागरिकों ने मांग की है कि इस क्षेत्र के जर्जर मकानों का सर्वे किया जाना चाहिए। यहां पर करीब 80 प्रतिशत मकान काफी जर्जर हालत में हैं।  बनोदे के रिश्तेदारों और बस्ती के नागरिकों ने महापौर संदीप जोशी से पीड़ित बनोदे परिवार को शासकीय मदद देने की मांग की है। महापौर से नागरिकों ने जुनी शुक्रवारी क्षेत्र का सर्वे कराने  और जर्जर मकानों को तोड़ने का आदेश देेने की भी सिफारिश की है। 
 

कमेंट करें
9T1dF