• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Security guard was caught red-handed by a private hospital, ambulance driver was taking the patient from medical

दैनिक भास्कर हिंदी: मेडिकल से मरीज को ले जा रहा था निजी अस्पताल , एंबुलेंस चालक को सुरक्षा रक्षक ने रंगे हाथ दबोचा

October 30th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर । मेडिकल अस्पताल के सुरक्षा रक्षक ने  निजी एम्बुलेंस चालक को धर दबोचा। यह मेडिकल अस्पताल से गुमराह कर मरीज को निजी अस्पताल लेकर जाने का प्रयास कर रहा था। निजी अस्पताल द्वारा दिए जा रहे कमिशन के चक्कर में यह खेल जारी होने की चर्चा जोरों पर है। घटना के बाद कुछ देर के लिए अस्पताल परिसर में हंगामा खड़ा हो गया था। इस बीच एम्बुलेंस चालक को अजनी पुलिस के सुपुर्द किया गया है। समाचार लिखे जाने तक प्रकरण दर्ज होना बाकी था। चालक अब्दुल शरीफ नासिर (40) नया बाबुलखेड़ा निवासी बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार  मंगलवार की रात करीब आठ बजे के दौरान बाहर गांव से पहुंचे एक मरीज के रिश्तेदारों को अब्दुल शरीफ सरकारी अस्पताल होने से अच्छा उपचार नहीं होने का झांसा देकर निजी अस्पताल में लेकर चलने बरगला रहा था। यह बात वहां मौजूद सुरक्षा रक्षकों ने सुनते ही अब्दुल को पकड़कर मेडिकल अस्पताल स्थित पुलिस चौकी में ले गए। बताया जा रहा है कि, इससे पहले भी अब्दुल कई बार मरीजों के रिश्तेदारों को गुमराह करते पकड़ाया है।

निजी अस्पतालों से मिलने वाले कमिशन के चक्कर में कई निजी एम्बुलेंस चालक इस गोरखधंधे में लिप्त है। मेडिकल अस्पताल परिसर में बड़ी संख्या में निजी एम्बुलेंस चालकों का जमावड़ा लगा रहता है।  इसमें कुछ लोग निजी अस्पतालों के लिए दलाली का काम करते है। इससे उन्हें दोगुनी कमाई होती है। एम्बुलेंस के किराए के साथ निजी अस्पतालों से मोटा कमिशन भी िमलता है। पूछताछ के बाद अब्दुल को अजनी पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है। मामले के गंभीर होने के बावजूद अजनी थाने के निरीक्षक प्रकरण को लेकर लापरवाही बरतते रहे। उनकी नजर में यह मामूली प्रकरण है। देर रात तक प्रकरण दर्ज नहीं िकया गया है।

पुरानी रंजिश में इमामवाड़ा क्षेत्र में गुटीय संघर्ष की आशंका  
पुरानी रंजिश को लेकर एक युवक के घर पर आरोपियों ने पथराव कर हमला बोल दिया। हमलावरों ने घर के दरवाजे के कांच फोड़ दिए, जिससे करीब 10 हजार रुपए का नुकसान हो गया। इस हमले से परिसर के नागरिकों में काफी दहशत है। नागरिकों का कहना है िक, इस क्षेत्र में दो गुटों में कभी भी संघर्ष हो सकता है। अभी तक आरोपियों की धर-पकड़ नहीं हुई है। घटना इमामवाड़ा क्षेत्र में हुई। 

पुलिस सूत्रों के अनुसार चंदन नगर निवासी शैलेंद्र अशोक यादव (25) और उसके भाई धर्मेंद्र यादव से पुरानी रंजिश के चलते आरोपी पंकज खरकटे (25) ने सोमवार की शाम को अपने मित्र बाबू, विनोद, बोहिरिया उर्फ जंगली और लकवा, सिरसपेठ निवासी आैर अन्य 4-5 साथियों के साथ मिलकर बस्ती में उत्पात मचाया। आरोपियों के इस गिरोह ने शैलेंद्र यादव के घर पर हमला कर दिया। आरोपियों ने शैलेंद्र के घर के दरवाजे को लगे कांच को भी तहस-नहस कर दिया। वे काफी देर तक बस्ती में हंगामा करते रहे। आरोपियों के फरार होने के बाद शैलेंद्र यादव ने इमामवाड़ा थाने में जाकर उक्त आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने आरोपी पंकज खरकटे और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही है।
 


 

खबरें और भी हैं...