दैनिक भास्कर हिंदी: शार्ट फिल्में कराएंगी हकीकत से रूबरू, रंगारंग रहा संगीतबद्ध गानों का प्रोग्राम

August 3rd, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आर्यंश फिल्म्स प्रोडक्शन हाउस की 5 शार्ट फिल्में हकीकत से लोगों को रूबरू कराएंगी। आइनॉक्स जसवंत तूली थिएटर में हाउस को लांच किया गया। इसके बैनर तले 5 शॉर्ट फिल्में कई विषयों पर बनी हैं। इस हाउस से शहर के नए टैलेंट को अवसर मिलेगा। इसके लांच के अवसर पर मनपा के स्थायी समिति अध्यक्ष वीरेंद्र कुकरेजा कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। गेस्ट ऑफ ऑनर थे घनश्याम दास कुकरेजा। नगरसेवक प्रमिला मथारानी व निर्देशक हृदयेश कांबले भी मौजूद थे। 

आर्यंश फिल्म्स के गोपाल खेमानी ने अतिथियों का स्वागत श्रीफल से किया। पांच फिल्मों में एम्बीशन, काश कुंवारा होता, सबक, जागो, औकात शामिल हैं।  इनमें कॉमेडी, सेंटिमेंटल, इमोशनल, एक्शन, सस्पेंस देखने को मिलेंगी। इस अवसर पर दीपक कुकरेजा, योगेश गंगवानी, रोशन दुधानी, राहुल शेटे, हितेश बलानी, सोनल शेटे मौजूद थे।

सुधीर फडके के संगीतबद्ध गानों की दी गई प्रस्तुति
संगीतकार सुधीर फडके की जन्मशताब्दी महोत्सव के अवसर पर महाराष्ट्र शासन सांस्कृतिक कार्य संचालनालय द्वारा सुगम संगीत कार्यक्रम का अायोजन सुरेश भट सभागृह में किया गया। सुधीर फडके के संगीतबद्ध किए हुए गानों को कलाकारों ने पेश किया। जिसमें "ज्योति कलस छलके, स्वर आले दुरुनी, फिटे अंधाराचे जाले, आकाशी झेप घे रे पाखरा आदि गीतों की प्रस्तुति ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। निरंजन बोबडे द्वारा गीत रामायण के "स्वये श्रीराम प्रभु ऐकती’ ने श्रोताओं को भक्तिमय माहौल में लीन कर दिया। इसके साथ ही अन्य गायक गुणवंत घटवाई, मंजिरी वैद्य, रसिका बावडेकर, श्रृति पांडवकर की आवाज ने महफिल में चार चांद लगा दिए। महेंद्र ढोले, अरविंद उपाध्याय, अमर शेंडे, मोरेश्वर दहासहस्त्रे, सुभाष वानखेडे, तुषार विघने आदि संगतकारों ने गायक कलाकारों का साथ दिया। किशोर गलांडे ने कार्यक्रम की प्रस्तावना रखी। इस अवसर पर दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के सदस्य कुणाल गडेकर, राष्ट्रीय सांस्कृतिक संपदा संवर्धन संरक्षण प्रकल्प प्रमुख लीना झिलपे, सांस्कृतिक कार्य संचालनालय के सहायक संचालक अलका तेलंग आदि उपस्थित थे।