comScore

स्मार्ट सिटी ने कचरे के निपटारे के लिए पांच रेलवे स्टेशनों का टेंडर निकाला

स्मार्ट सिटी ने कचरे के निपटारे के लिए पांच रेलवे स्टेशनों का टेंडर निकाला

डिजिटल डेस्क, नागपुर । शहर में कचरे के निपटारे के लिए स्मार्ट सिटी ने पहला टेंडर निकाल लिया है। इसके अंतर्गत शहर में 10 जोन के िलए 10 ट्रांसपोर्ट स्टेशन बनने वाले हैं। इसमें पहले पांच स्टेशनों के लिए टेंडर फ्लोट कर दिया है। इन पांच स्टेशनों में गीला और सूखे कचरे का संकलन अलग-अलग कर इन्हें मशीनों में डालकर सघन किया जाएगा और भांड़ेवाड़ी पहुंचाया जाएगा। जहां पर कचरे काे अलग-अलग ही रखा जाएगा। इसके लिए नागपुर स्मार्ट एंड सस्टेनेबल सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने प्रोजेक्ट की एस्टिमेटेड कॉस्ट 39.9 करोड़ रखी है। इसमें अलग-अलग जगह से कचरे को गीला, सूखा और सभी कचरे को अलग-अलग संकलित किया जाएगा।

अभी तक गीला सूखा कचरे को अलग-अलग संकलित करने की बात हो रही थी लेकिन फिर भी कचरे को एक साथ ही संकलित किया जाता था और संकलन के बाद भी भांड़ेवाड़ी में एक ही जगह पर गीला सूखा कचरा दोनों डाल दिए जाते थे। इसके लिए दूसरी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट दिया जाएगा जो कि अलग-अलग कचरा संकलन करेगी और उसे ट्रांसपोर्ट स्टेशन में लाया जाएगा। यहां पर कचरे काे मशीन में डालकर ही सघन किया जाएगा। सघन करने से कचरे अच्छी तरह जमा हो जाता है। जिससे एक ही बार में अधिक कचरा भांड़ेवाड़ी ले जाया सकता है। इसके साथ ही कचरे में से प्लास्टिक कांच और अन्य ऐसी वस्तुओं को भी अलग किया जाएगा जिसे फिर से उपयोग कर सकें और कंपनियों को बेच सके।

खर्चा कम होगा
हर दिन नागपुर से 1200 मिलियन टन कचरा निकलता है। ट्रांसपोर्ट स्टेशनों में एक बार में 150 टन कचरे को सघन किया जा सकेगा। ट्रांसपोर्ट स्टेशन लगभग 4 हजार वर्ग मीटर रहेगा। इससे पर्यावरण को फायदे के साथ ही कचरे को ले जाने के लिए कम खर्च होगा। ट्रांसपोर्ट के लिए भी कम वाहनों का उपयोग होगा। पहले पांच स्टेशनों के लिए टेंडर निकाला है।  - देवेंद्र महाजन, इनवॉयरमेंटल मैनेजर, नागपुर स्मार्ट एंड सस्टेनेबल सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड
 

कमेंट करें
MO1hl