सामाजिक क्रांति आघाडी: पिछड़े वर्गो की मांगों को लेकर जंतर-मंतर पर हल्लाबोल

July 24th, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सामाजिक क्रांति आघाडी सोमवार को यहां के जंतर-मंतर अपनी आवाज बुलंद कर समाज के पिछड़े वर्गों की लंबित विभिन्न मांगों की गूंज सरकार के कानों तक पहुंचाएगी। सामाजिक क्रांति आघाडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस विरेंद्र सिंह यादव, समन्वयक आंध्रप्रदेश हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस वी ईश्वरैया और पूर्व सांसद एवं आघाडी के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष हरिभाऊ राठोड़ की मौजूदगी में यहां दिनभर धरना प्रदर्शन होगा। पूर्व सांसद राठोड़ ने कहा कि ओबीसी, एससी-एसटी और पिछड़ा वर्गों की कई लंबित मांगे है जिस पर सरकार ने कोई काईवाई नहीं की है। गत कई व र्षों से विभिन्न संगठनों की ओर से समय समय पर मोर्चा, धरना प्रद र्शन के माध्यम से इन मांगों को पूरा करने की गुहार लगाई गई, लेकिन अब तक किसी प्रकार का न्याय नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि 25 जुलाई को आयोजित धरना प्रदर्शन के जरिए हम सभी जातियों की जनगणना करने, स्थानीय निकायों में आरक्षण की सीमा बढाने के लिए संविधान में संशोधन करके ओबीसी आरक्षण उनकी संख्या के आधार पर दिया जाए, राज्यों में पिछड़ा वर्गो के पदोन्नति में आरक्षण बंद है जिसे तत्काल लागू किया जाए, सभी को मुफ्त और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया कराना, केन्द्र और राज्य सरकारों की ओर से तत्काल नोकर भर्ति कराई जाए के अलावा किसानों के उत्पाद को एमएसपी दिया जाए आदि मांगों पर सरकार का ध्यान आकर्षित किया जाएगा। राठोड़ ने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार उपरोक्त मांगों का गंभीरता से विचार कर इस पर तत्काल अमल करें अन्यथा आगामी काल में हम किसी भी राजनीतिक दल को मतदान नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि सामाजिक क्रांति आघाडी ने यह निर्धार किया है कि जो पार्टी ओबीसी, एससी-एसटी, बीसी, भटके विमुक्त और बारा बलुतेदार की मांगों पर अमल करके न्याय करेंगे उसी दल के साथ हम हो लेंगे।