दैनिक भास्कर हिंदी: सोहराबुद्दीन मुठभेड़ मामला : वकील जेठमलानी का दावा- CBI ने की सबूतों के साथ छोड़छाड़

July 5th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। CBI ने सोहराबुद्दीन कथित फर्जी मुठभेड़ मामले के सबूतों के साथ छेड़छाड की है, जिसके चलते बड़ी संख्या में गवाह अपने बयान से मुकर रहे हैं। गुरुवार को वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान CBI पर यह आरोप लगाया। अब तक इस मामले के 77 गवाह अपने बयान से मुकर चुके है।

जेठमलानी हाईकोर्ट में इस प्रकरण में आईपीएस अधिकारी राजकुमार पंडियन की ओर से पैरवी कर रहे है। पंडियन को निचली अदालत ने इस मामले से मुक्त कर दिया है। निचली अदालत के इस निर्णय को सोहराबुद्दीन के भाई रुबाबुद्दीन ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है। 

जस्टिस एएम बदर के सामने इस मामले की सुनवाई चल रही है। इस दौरान श्री जेठमलानी ने कहा कि हमे कोई आश्चार्य नहीं होना चाहिए यदि इस मामले के मुख्य गवाह एन.जडेजा व गुरुदयाल सिंह अपने बयान से मुकर जाए। उन्होंने कहा कि CBI ने 2010 में जब इस मामले के जांच की शुरुआत की तो उसने अपने हिसाब से लोगों के बयान दर्ज किए और सबूतों के साथ जालसाजी व छेड़छाड़ की।

CBI ने इस मामले के मुख्य गवाह के 2005 से 2010 के बीच सात बार बयान दर्ज किया है। उन्होंने कहा कि प्रकरण को लेकर CBI के गवाह विश्वसनीय नहीं है। अब तक इस मामले में करीब 125 गवाहों की गवाही हुई है। इसमे से करीब 77 गवाह अपने बयान से मुकर चुके हैं। 

जेठमलानी की इस दलील पर एडिशनल सालिसिटर जनरल अनिल सिंह ने कहा कि इस मामले में CBI के कुल 709 गवाह है। इसमे से 125 लोगों की गवाही हो चुकी है। CBI सभी गवाहों को कोर्ट में नहीं लाएगी। उन्होंने कहा कि अभी 80 गवाह और कोर्ट में लाए जाएंगे । इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को भी जारी रहेगी।