comScore

नागपुर स्टेशन पर बढ़ने लगी यात्रियों की चहल-पहल, किसान रेल बनी वरदान, अब सप्ताह में तीन दिन हावड़ा-मुंबई मेल

नागपुर स्टेशन पर बढ़ने लगी यात्रियों की चहल-पहल, किसान रेल बनी वरदान, अब सप्ताह में तीन दिन हावड़ा-मुंबई मेल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर रेलवे स्टेशन पर गाड़ियों की संख्या बढ़ने के साथ ही यात्रियों की चहल-पहल भी बढ़ने लगी है। महीनों से सन्नाटा पसरे रेलवे स्टेशन का माहौल गुलजार दिखाई देने लगा है। स्टेशन पर रेल प्रशासन की ओर से इनकी सुविधा के लिए नए खान-पान स्टॉल की संख्या भी बढ़ाई जा रही है। वर्तमान स्थिति में यहां कुल 5 स्टॉल हैं, जो नाकाफी हैं। ऐसे में स्टॉल बढ़ाए जा रहे हैं।

मार्च से है सन्नाटा

कोरोना संक्रमण के बाद मार्च से स्टेशन पर सन्नाटा पसरा रहता है। जैसे-जैसे गाड़ियां बढ़ रही हैं, वैसे-वैसे यात्रियों की चहल-पहल भी बढ़ रही है। पहले चलाई जा रही 22 स्पेशल गाड़ियों के बाद अब इसमें करीब 20 नई स्पेशल ट्रेनें जोड़ी गई हैं। जो चेन्नई, दिल्ली, तेलंगाना, बंगलुरु आदि दिशाओं से चलकर नागपुर से गुजरेंगी। इन गाड़ियों का नागपुर स्टेशन पर स्टॉपेज रखा गया है। यहां यात्रियों के लिए खान-पान के स्टॉल तो हैं, जो नाकाफी हैं। ऐसे में रेल प्रशासन की ओर से यहां नए खान-पान स्टॉल के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अब तक यहां 5 स्टॉल है, जिसमें फ्रूट स्टॉल, खान-पान स्टॉल शामिल हैं। स्टेशन पर 3 से 4 और नए स्टॉल खुल सकते हैं।

किसान रेल बनी किसानों के लिए वरदान

इसके साथ ही किसान रेल अब किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। यही कारण है कि इसे सप्ताह में एक दिन की जगह तीन दिन चलाया जा रहा है। इसकी दूरी भी बढ़ाई गई है। गत एक माह में किसान रेल से 11 टन से ज्यादा अनार की ढुलाई की गई है। फिलहाल इसे नाशिक से  दानापुर होते मुजफ्फरपुर तक चलाया जा रहा है। किसान रेल को नागपुर से भी चलाने की रेलवे की योजना है।

उत्तर भारत में भेजा जा रहा माल

किसान रेल, पश्चिमी महाराष्ट्र के किसानों के जीवन मे  एक नई रोशनी लाई है। इससे अनार, सब्जी सहित अन्य सामानों की ढुलाई महाराष्ट्र से उत्तरी भारत में की जा रही है। एक महीने में 1100 टन से अधिक अनार का  परिवहन किया गया है। सस्ते और सबसे तेज़ परिवहन का लाभ उठाने वाले किसान उत्साहित हैं। किसान रेल अब सप्ताह में तीन दिन चल रही है। यह महाराष्ट्र के सांगोला, पंढरपुर, कोपरगांव, पुणे, दौंड, नाशिक, मनमाड़ क्षेत्रों से अनार, शिमला मिर्च, फूलगोभी, नींबू, हरी मिर्च, आइस्ड-फिश, पौधे, अंडे और अन्य सब्जियों का लगातार परिवहन कर रही है। अब तक कुल 1127.67 टन माल का परिवहन किया गया है। 

सप्ताह में तीन दिन चलेगी हावड़ा-मुंबई-हावड़ा मेल

यात्री परिवहन बढ़ाने के उद्देश्य से पहले जिन ट्रेनों को प्रतिदिन से घटाकर साप्ताहिक कर दिया गया था, अब उन्हें त्रिसाप्ताहिक चलाया जाएगा। यह निर्णय शनिवार से लागू हो गया है। इनमें ट्रेन 02810/09 हावड़ा-मुंबई-हावड़ा मेल शामिल है, साथ ही ट्रेन 02834/33 हावड़ा-अहमदाबाद-हावड़ा स्पेशल एक्सप्रेस को भी सप्ताह में 3 दिन चलाने का निर्णय गया है। ट्रेन नंबर 02810 अब सोमवार, बुधवार और शनिवार को अपने निर्धारित समय पर हावड़ा से चलेगी। ट्रेन 02809 अब बुधवार, शुक्रवार और सोमवार को मुंबई से चलेगी। इसी प्रकार, ट्रेन 02834 मंगलवार, शुक्रवार और रविवार को हावड़ा और ट्रेन 02833 शुक्रवार, सोमवार और बुधवार को अहमदाबाद से चलेगी। सभी ट्रेनों के प्रस्थान और आगमन के समय में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। ज्ञात हो कि उपरोक्त चारों गाड़ियां 1 जून से चलाई गईं 230 स्पेशल ट्रेनों में शामिल थीं, जो प्रतिदिन परिचालित की जा रही थीं। कोरोना के बढ़ते प्रादुर्भाव और यात्रियों की घटती संख्या को देखते हुए इन्हें पिछले करीब 60 दिनों से साप्ताहिक बनाकर चलाया जा रहा था।

7 अगस्त 2020 को नाशिक के देवलाली से दानापुर तक एक साप्ताहिक सेवा के रूप में इसे शुरू किया गया था। बाद में मुजफ्फरपुर तक विस्तारित की गई और अब सांगोला, पुणे से मनमाड़ में एक लिंक रेल से जुड़ी, किसान रेल तीन दिन चल रही है। किसान रेल को कृषि मंत्रालय के सहयोग से रेल मंत्रालय ने शुरू किया है। जिससे किसानों के लिए परिवहन की तीव्रता, आय में वृद्धि, मात्रा पर प्रतिबंध न होने, सड़क की तुलना में सस्ता और बड़ी बचत के साथ किसानों के लिए आशा और अवसर बना है।
 

कमेंट करें
nl9ro