दैनिक भास्कर हिंदी: हवाला और सट्टेबाजी में लिप्त दो युवकों से STF ने जब्त किए 35 लाख कैश

August 30th, 2018

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। कटंगा स्थित क्रिस्टल होटल के पास गत दोपहर करीब 2 बजे स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने फिल्मी अंदाज में बाइक सवार दो युवकों को रोककर तलाशी ली, जिसमें युवकों के पास बैग में 35 लाख रुपए कैश मिले। पहले तो संदेहियों ने गोलमोल जवाब दिया, लेकिन बाद में उन्हें रामपुर स्थित एसटीएफ थाने ले जाया गया, जहां उन्होंने खुद को पंचशील नगर ग्वारीघाट निवासी वकील मनोज सनपाल के कर्मचारी बताते हुए पैसा मनोज का बताया। युवकों के पकड़े जाने के बाद कुछ वकीलों के साथ मनोज सनपाल भी एसटीएफ ऑफिस पहुंचा, जहां उसने उक्त पैसा एलआईसी की बीमा पॉलिसी का बताया, जिसके संबंध में एसटीएफ टीम ने मनोज से लिखित में जवाब मांगा, लेकिन इसके बाद मनोज गायब हो गया।

एसटीएफ टीम का कहना है कि पकड़े गए युवक क्रिकेट की सट्टेबाजी और हवाला के अवैध धंधों से जुड़े हुए हैं, जिनका पुराना रिकॉर्ड भी है. लिहाजा जब्त रकम गैरकानूनी हो सकती है, जिसके संबंध में विस्तृत जांच की जा रही है। एसटीएफ ने इस मामले की जानकारी इनकम टैक्स विभाग को भी दी है, जिसे इनकम टैक्स विभाग भी जांच कर रहा है। फिलहाल दोनों युवकों को हिरासत में लेकर गहन पूछताछ की जा रही और अनुमान है कि जांच पूरी होने के बाद अवैध धंधों का संगठित गिरोह सामने आ सकता है। इस मामले में जबलपुर क्राइम ब्रांच ने भी अपने स्तर पर गोपनीय जांच शुरू कर दी है।

एसटीएफ निरीक्षक हरिओम दीक्षित ने बताया कि बुधवार की दोपहर मुखबिर से मिली सूचना पर कटंगा स्थित क्रिस्टल होटल के सामने बाइक सवार दो युवकों को रोककर तलाशी ली गई थी, जिसमें एक युवक के पास बैग में 35 लाख रुपए कैश मिला। पकड़े गए युवकों में गलगला निवासी अमित शर्मा और घमापुर निवासी सोनू मनवानी हैं।

एलआईसी की पॉलिसी का पैसा बताया
निरीक्षक दीक्षित के अनुसार अमित और सोनू के पकड़े जाने के बाद मनोज सनपाल कुछ वकीलों के साथ पहुंचे और उक्त पैसा अपना बताया। मनोज ने कहा कि वे वकालत के साथ एलआईसी की पॉलिसी भी करते हैं और 35 लाख रुपए पॉलिसी के हैं, लेकिन इसके बाद मनोज ने किसी तरह का कोई लिखित जवाब नहीं दिया न ही वापस लौटे।

ज्योति टॉकीज के पास पहुंचाना था पैसा
अमित और सोनू ने बताया कि मनोज सनपाल ने उन्हें बैग में पैसे रखकर देते हुए कहा था कि तुम लोग ज्योति टॉकीज के पास पहुंचो, वहां कोई व्यापारी आएगा, जिसे तुम पैसे दे देना। लेकिन इससे पहले ही वे लोग पकड़े गए।

हवाला और सट्टेबाजी से जुड़े हैं तार
सूत्रों के अनुसार एसटीएफ और इनकम टैक्स की पूछताछ में अमित और सोनू ने महत्वपूर्ण जानकारियां दी हैं, जिससे ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि जब्त पैसा हवाला या सट्टेबाजी का हो सकता है। एसटीएफ ने अमित और सोनू को प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के तहत गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को भोपाल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में पेश करके पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया जाएगा।

आईटी अधिकारियों ने पांच घंटे की पूछताछ
एसटीएफ की सूचना पर इनकम टैक्स विभाग के तीन वरिष्ठ अधिकारी एसटीएफ ऑफिस पहुंचे, जिन्होंने अमित शर्मा और सोनू मनवानी से पांच घंटे तक लंबी पूछताछ की।

 

खबरें और भी हैं...