दैनिक भास्कर हिंदी: जाम नदी में अचानक आई बाढ़, टापू पर फंसे 12 लोग, बचाने रेस्क्यू जारी

June 22nd, 2021



-घोघरा वॉटर फॉल में पिकनिक मनाने पहुंचे नागपुर के तीन परिवार बाढ़ में फंसे
डिजिटल डेस्क सौंसर/छिंदवाड़ा। सौंसर के जाम नदी में ग्राम रिधोरा के घोघरा वॉटर फॉल में मंगलवार को पिकनिक मनाने पहुंचे नागपुर के तीन परिवारों के 12 सदस्य नदी में अचानक आई बाढ़ में फंस गए। टापू में फंसे लोगों में दो बच्चे भी शामिल हैं। बाढ़ में लोगों के फंसे होने की सूचना पर पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई थी। शाम छह बजे से टापू में फंसे लोगों को बाहर निकालने रेस्क्यू शुरू कर दिया गया था। नदी में तेज बहाव होने से लोगों को टापू से बाहर निकालने के लिए देर रात तक मशक्कत जारी रही। टीम को सफलता नहीं मिल पाई।  
सौंसर टीआई भूपेन्द्र गुलबांके ने बताया कि महाराष्ट्र के नागपुर के पीली नदी निवासी गूजर, तिरपुड़े और पराने तीन परिवार जाम नदी स्थित घोघरा वॉटर फॉल में मंगलवार शाम लगभग चार बजे पिकनिक मनाने पहुंचे थे। नदी से लगे टापू में पिकनिक मना रहे थे इसी दौरान शाम लगभग पांच बजे अचानक नदी का जलस्तर बढऩे लगा। कुछ देर में ही नदी में बाढ़ आ गई। टापू में फंसे परिवार में दो बच्चे समेत 12 लोग शामिल है। एसडीएम सत्येम कुमार और तहसीलदार ने रेस्क्यू की कमान संभाली हुई है। रात दस बजे तक टापू से लोगों को नहीं निकाला जा सका था। बाढ़ कम होने का इंतजार किया जा रहा है।
बचाने पहुंचा तैराक भी फंसा-
रेस्क्यू टीम में शामिल एक तैराक शाम लगभग सात बजे नदी के तेज बहाव को पार कर टापू पर पहुंच गया था। इसी बीच नदी का जलस्तर और बढ़ गया। जिसकी वजह से रेस्क्यू रोकना पड़ा।  
रेस्क्यू में चट्टानें बन रही अवरोध-
नदी के जिस हिस्से में लोग फंसे हैं वहां बड़ी-बड़ी चट्टानें हैं। चट्टान की वजह से रेस्क्यू टीम के तैराक टापू तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर पानी के तेज बहाव और अंधेरा भी रेस्क्यू में आड़े आ रहा है।  
पांढुर्ना में बारिश से नदी में आई बाढ़-
जाम नदी पांढुर्ना से होकर आती है। मंगलवार को पांढुर्ना के कुछ क्षेत्रों में तेज बारिश हुई थी। इस वजह से नदी में बाढ़ आ गई। शाम लगभग चार बजे जब परिवार के सदस्य टापू में पहुंचे थे तब नदी का जलस्तर काफी कम था। बारिश के पानी की वजह से अचानक नदी मेंं बाढ़ आ गई।
गनीमत है कि टापू की ऊंचाई अधिक-
जाम नदी में घोघरा वॉटर फॉल के समीप लगे टापू की ऊंचाई काफी अधिक है। इस टापू से नदी दो हिस्सों में बंटती है। नदी में फंसा परिवार टापू के जिस हिस्से में है वहां पानी का स्तर काफी नीचे है। परिवार पूरी तरह से सुरक्षित है।
बाढ़ में फंसे लोगों में यह शामिल-
घोघरा वॉटर फॉल में नागपुर के पीली नदी निवासी 50 वर्षीय विद्याबाई पति राजू गूजर, 30 वर्षीय बादल पिता राजू गूजर, 25 वर्षीय प्रिया गूजर, 25 वर्षीय बारिश गूजर, 24 वर्षीय निकिता गूजर, 40 वर्षीय चंद्रजीत तिरपुड़े, 30 वर्षीय कोमल तिरपुड़े, 8 वर्षीय आयांश तिरपुड़े, 22 वर्षीय शिवानी पराने, 20 वर्षीय यश पराने, 8 वर्षीय ग्लोही पराने और वनदेवी निवासी 40 वर्षीय कोकिला दाऊसकर शामिल है।
इनका कहना है...
टापू पर फंसे लोगों को निकालने रेस्क्यू किया जा रहा है। नदी में बहाव तेज होने की वजह से रेस्क्यू में कुछ समस्याएं आ रही हंै। बाढ़ का पानी कम होने का इंतजार कर रहे है।
-महेश अग्रवाल, तहसीलदार

 

खबरें और भी हैं...