comScore

एम्स में जब देश-दुनिया से मरीज आएंगे तभी यह उपयोगी -गडकरी

एम्स में जब देश-दुनिया से मरीज आएंगे तभी यह उपयोगी -गडकरी

 डिजिटल डेस्क, नागपुर। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) नागपुर की उपयोगिता तब साबित होगी जब देश और दुनिया के लोग यहां उपचार के लिए आएं। शहर के अस्पतालों के बाहर लगी गाड़ियाें की कतार खत्म हो जाए, फिलहाल ऐसी स्थिति नहीं है। पहले बाईपास के लिए लोग मुंबई जाते थे, हमारे पास रुकते थे, लेकिन अब कोई जाता नहीं है, क्योंकि नागपुर में उपचार संभव है। यह बात केन्द्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने नागपुर एम्स के दूसरे स्थापना दिवस समारोह में कही। वे  मिहान स्थिति एम्स परिसर में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। पालकमंत्री नितीन राऊत, राज्यसभा सांसद डॉ. विकास महात्मे और नागपुर एम्स की संचालिका डाॅ. विभा दत्ता प्रमुखता से उपस्थित थे।

मेयो-मेडिकल जैसे डिब्बा ना बनाएं
गडकरी ने कहा कि, नागपुर एम्स आने के बाद से मेडिकल और मेयो में भी सुधार होगा। एम्स को मेयो-मेडिकल जैसा डिब्बा अस्पताल न बनने दिया जाए। एम्स में फिलहाल मरीजों की संख्या कम है, यहां 10 हजार मरीज नियमित आने चाहिए।

मिहान में बनेगा मेडिकल डिवाइस पार्क
मेडिकल डिवाइस में कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई है, जिससे हमारे यहां भी शुरुआत हो। पहला मेडिकल डिवाइस पार्क विशाखापट्टनम में शुरु हुआ है। देश के 6 मेडिकल डिवाइस पार्क में एक नागपुर के मिहान में भी बनाने की दिशा में काम चल रहा है। मेडिकल डिवाइस पार्क में 6.5 करोड़ का एमआरआई 58 लाख रुपए में बनाया गया है।

फुलबॉडी चेकअप सुविधा हो : राऊत
पालकमंत्री राऊत ने कहा कि, हमारे इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में बिल्डिंग, स्टॉफ और लैब है। बंगलुरु के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सांइस जैसा नागपुर में बनाने के लिए केन्द्रीय मंत्री प्रयास करेंगे, तो जरूर बन जाएगा। एम्स में फुलबाॅडी चेकअप की सुविधा होनी चाहिए, बहुत कम जगह ऐसी सुविधा है। 

मेट्रो स्टेशन से बस की जरूरत
डॉ. महात्मे ने कहा कि, एम्स पहुंचने के लिए मेट्रो स्टेशन से बस की सुविधा होनी चाहिए। इस बारे में महापौर संदीप जोशी को एक सामान्य पत्र व्यवहार करने को कहा है। इस पर केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि, मेट्रो स्टेशन से बस की सुविधा हो जाएगी।

अप्रैल से एम्स में भर्ती होंगे मरीज
एम्स संचालिका डॉ. दत्ता ने कहा कि, एमबीबीएस की 50 से 100 सीट का बैच हो गया है। अक्टूबर 2019 से ओपीडी आरंभ हो गई है। अप्रैल 2020 से मरीजों को भर्ती करना आरंभ होगा। जुलाई 2021 से सुपरस्पेशलिटी वाले विभाग जैसे कार्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी आदि आरंभ होंगे।
 

कमेंट करें
79Gpd