दैनिक भास्कर हिंदी: एसिड अटैक पीड़ित युवती से रिश्वत मांगने वाले TI व प्रधान आरक्षक निलंबित

June 4th, 2019

डिजिटल डेस्क, शहडोल। एसिड अटैक के मामले में हीला हवाली बरतने पर जिले के ब्यौहारी थाना प्रभारी निरीक्षक गोपाल सिंह एवं प्रधान आरक्षक वीरेंद्र तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है। यह कार्रवाई पुलिस महानिरीक्षक शहडोल एसपी सिंह द्वारा मंगलवार को की गई है।

शोहदे ने फेका था किशोरी पर एसिड
गौरतलब है कि ब्यौहारी थाना क्षेत्र में 25 मई को घटना हुई थी। जिसमें नाबालिग लड़की के साथ आरोपी हेमराज कहार ने छेड़छाड़ का प्रयास किया। असफल रहने पर लड़की के शरीर पर तेजाब फेंक दिया। घटना के बाद पीड़ित लड़की व परिजनों को आमनवीय दौर से गुरजना पड़ा। रिपोर्ट लिखाने जब वे थाने पहुंची तो पहले तो पैसों की मांग की गई, नहीं मिलने पर रिपोर्ट नहीं लिखी गई। थक हारकर पीड़ित व परिजन सोमवार को आईजी के पास पहुंचे। जिन्होंने मानवीयता का परिचय देते हुए पहले इलाज के लिए पांच हजार की राशि मुहैया कराई। इसके बाद कोतवाली में शून्य पर प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए गए। आरोपी के विरुद्ध कोतवाली में शून्य पर प्रकरण दर्ज किया गया।

लापरवाही पर कार्रवाई
इस मामले में ब्यौहारी पुलिस द्वारा बरती गई लापरवाही का जमकर विरोध हुआ। भाजपा की ओर से वरिष्ठ नेता कैलाश तिवारी, एडवोकेट दिनेश दीक्षित, चन्द्रेश द्विवेदी तथा युवा नेता अमित मिश्रा ने मंगलवार को आईजी से मिलकर घटना पर रोष जताते हुए दोषी पुलिस अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की। इसके बाद आईजी ने कुछ ही देर में दोनों अधिकारियों के निलंबन का आदेश जारी कर दिया।

तीन हजार की रिश्वत लेते समिति प्रबंधक को लोकायुक्त ने दबोचा
जिले के तहसील गोहपारू अंतर्गत चुहिरी समिति प्रबंधक को तीन हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त रीवा ने रंगे हाथ दबोच लिया। यह कार्रवाई मंगलवार को समिति प्रबंधक दिनकर प्रसाद तिवारी के लेदरा स्थित आवास में की गई। जानकारी के अनुसार दिनकर प्रसाद तिवारी 52 वर्ष निवासी ग्राम लेदरा समिति प्रबंधक आदिम जाति सेवा सहकारी समिति मर्यादित चिहुरी को शिकायतकर्ता कैलाश साहू 36 वर्ष निवासी नवाटोला ग्राम पंचायत नवाटोला तहसील गोहपारू से 3000 की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया। 

आरोपी ने शिकायतकर्ता से उसके फसल बीमा की प्राप्त राशि एवं सोसायटी में बिक्री की गयी धान के कमीशन के रूप में 3000 रुपए रिश्वत की मांग की गयी थी। आरोपी के निवास ग्राम लेदरा में रिश्वत की राशि लेते हुए लोकायुक्त पुलिस रीवा टीम द्वारा रंगे हाथ पकड़ा गया। शिकायतकर्ता द्वारा पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त रीवा के समक्ष शिकायत प्रस्तुत की गई थी। शिकायत सत्यापन पश्चात पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र वर्मा के निर्देशानुसार यह कार्यवाही लोकायुक्त उप पुलिस अधीक्षक बीके पटेल के नेतृत्व में की जा रही है। कार्यवाही टीम में निरीक्षक हितेंद्रनाथ शर्मा, प्रधान आरद्वक्षक विपिन त्रिवेदी, आरक्षक मुकेश मिश्रा, अजय पाण्डेय, मनोज मिश्रा, लवलेश पाण्डेय सहित कुल 12 सदस्य शामिल रहे।