दैनिक भास्कर हिंदी: गोरेवाड़ा के डॉक्टरों की निगरानी में है एक बाघ, दूसरे की संदिग्ध मौत के बाद होगा कोरोना टैस्ट

June 22nd, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सोमवार सुबह ब्रम्हपुरी से एक बाघ को गोरेवाड़ा रेस्कयू सेंटर में लाया गया है। बाघ जख्मी होने पर डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है। दरअसल बाघ एक व्यक्ती के घर में घुस गया था। लगभग 6 घंटों की मशक्कत के बाद बाघ को पकड़ने में सफलता मिली थी। वन विभाग की टीम ने इसकी जांच करने पर जख्मी पाया, ऐसे में उसे गोरेवाड़ा के बचाव दल के पास भेजा गया है। जानकारी के अनुसार रविवार शाम 4 बजे ब्रम्हपुरी वन विभाग अंतर्गत नागभीड़ वन परीक्षेत्र अंतर्गत बाम्हणी गांव में पिंटु देशमुख के घर एक बाघ घुस गया था। उस वक्त घर में कोई नहीं था, जिससे अनहोनी नहीं हुई। पिंटु के घर आने पर उसे बाघ के संकेत मिले, जिसके बाद उसने संबंधित वन विभाग को जानकारी दी। वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंचे, रात 9.57 बजे बाघ को डॉट मारने में वन विभाग को सफलता मिली। इसके बाद 10.20 को बाघ बेहोश हो गया। जिसके बाद उसे पिंजरे में डाला गया। बाघ रेस्कयू के वक्त चिमुर की स्टेट टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स भी मौजूद था। 

पुलिस सिपाही अजय मराठे, चंद्रपुर सदस्य अमोल ताजने, सुरेंद्र मंगाम, श्रीराम आडे, सतिश नागोसे, अमोल नेवारे, नागोबा ठाकरे, सुरज वाडे, राहुल धनविजय आजि उपस्थित थें। रेस्कयू करने के बाद बाघ को जख्मी पाया गया। जिसके बाद सोमवार के तड़के उसे नागपुर के गोरेवाड़ा रेस्क्यू सेंटर में इलाज के लिए भेजा गया है। जहां इसका इलाज चल रहा है।