comScore

3800 सीसीटीवी के माध्यम से पूरे शहर में ट्रैफिक की निगरानी कर रही है ट्रैफिक पुलिस

3800 सीसीटीवी के माध्यम से पूरे शहर में ट्रैफिक की निगरानी कर रही है ट्रैफिक पुलिस

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  संतरानगरी में नियमों की अनदेखी के चलते हर साल यातायात पुलिस विभाग करोड़ों रुपए जमा करती है। पुलिस विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, संतरानगरी की सड़कों पर फर्राटे भरने वाले करीब 70 फीसदी वाहन चालकों को सड़कों पर लगे यातायात संकेतकों की जानकारी नहीं है। भास्कर हिंदी डॉट काम ने इस बारे में कुछ वाहन चालकों से जब पूछताछ की तो यह सच सामने आया। 

लगभग 3 हजार जेब्रा क्रासिंग
शहर में करीब 3800 सीसीटीवी निगरानी रख रहे हैं। नागपुर की सड़कों पर लगभग 3 हजार जेब्रा क्रासिंग हैं। इसमें इंदोरा, अग्रसेन चौक, अशोक चौक, छत्रपति चौक, मानेवाड़ा चौक सहित कई स्थानों पर जेब्रा क्रासिंग के पट्टे मिट चुके हैं। यातायात सिग्नलों, जेब्रा क्रासिंग, सीसीटीवी के रख-रखाव की जिम्मेदारी नागपुर महानगरपालिका की है। पुलिस कई बार इस विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक लेकर इन समस्याओं पर चर्चा कर चुकी है, लेकिन स्थिति जस की तस बनी है। नागपुर- कामठी रोड पर मारुति शोरूम चौक, खरबी चौक, एच बी टाउन, जरीपटका रिंग रोड, सुगतनगर चौक सहित कई स्थानों पर रख-रखाव के अभाव में सीसीटीवी बंद पड़े हैं। 

नियमों की अनदेखी करने वाले में कम उम्र के बच्चे 
यातायात पुलिस का मानना है कि नियमों की अनदेखी करने वाले में कम उम्र के बच्चे भी शामिल हैं। शहर यातायात पुलिस विभाग के 10 जोन  में वर्ष 2019 में बिना हेलमेट के 68 हजार वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई।  25 हजार कार चालकों को बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाते पकड़ा गया। इसी तरह सीसीटीवी कैमरे और डीवाइस के माध्यम से 18 हजार से ज्यादा दोपहिया वाहन चालकों को ट्रिपल सीट पकड़ा गया। 6971 लोगोें को डेंजरर्स तरीके से वाहन चलाते हुए मिलने पर चालान कार्रवाई की गई। सूत्रों के अनुसार बिना हेलमेट के दोपहिया वाहन चलानेवाले करीब 68 हजार वाहन चालकों  से 10 करोड़ 26 लाख 43 हजार 500 रुपए का चालान वसूल किया गया। इसी तरह  बिना सीट बेल्ट के कार चलाने वाले 25 हजार 441 वाहन चालकों से 29 लाख 30 हजार का चालान वसूल किया गया। ट्रिपल सीट वालों से 29 लाख 52 हजार रुपए चालान वसूले गए। अभी भी करोड़ों रुपए का ई-चालान लोगों ने जमा नहीं किया है। 

सीसीटीवी से बने ई-चालान 
सूत्रों के अनुसार, वर्ष 2019 में सीसीटीवी से स्क्रीन शार्ट लेकर वाहन चालकों को चालान भेजा गया। बिना हेलमेट के दोपहिया चलाने वाले 27 हजार 453 वाहन चालकों पर सीसीटीवी की मदद से ही कार्रवाई कर करीब 1 करोड़ 37 लाख 26 हजार 500 रुपए का चालान भेजा गया। डिवाइस यानी की पुलिस कर्मियों द्वारा चौराहों पर तैनात रहने के दौरान 40 हजार 385 वाहनों का चालान बनाकर उन्हें 2 करोड़ 1 लाख 92 हजार 500 रुपए का ई-चालान भेजा गया। बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाने वाले 12 हजार 612 चालकों को 25 लाख 22 हजार 400 रुपए का ई-चालान भेजा गया। पुलिस डिवाइस से 12 हजार 829 वाहन चालकों को 25 लाख 65 हजार 800 रुपए का ई-चालान बनाकर भेजा गया। ट्रिपल सीट सफर करने वाले 1966 चालकों को 3 लाख 93 हजार 200 रुपए का ई-चालान भेजा गया। पुलिस डिवाइस से 16 हजार 605 चालकों को 33 लाख 21 हजार रुपए का ई चालान भेजा गया। 

चालान के लिए 5 तस्वीरें ली जाती हैं
सीसीटीवी के कमान सेंटर में बैठे पुलिस अधिकारी, कर्मचारी एक वाहन चालक द्वारा ट्रैफिक नियमों की अनदेखी करने पर उसकी 5 तस्वीरें लेते हैं। एक तस्वीर वाहन चालक के घर, दूसरी आरटीओ, तीसरी यातायात पुलिस विभाग के संबंधित जोन यातायात शाखा और एक डाक विभाग के पास भेजी जाती है। इन तस्वीरों का एक साथ स्क्रीन शॉट लिया जाएगा, जिससे कोई भी वाहन चालक इनकार नहीं कर सकता है कि वह वाहन नहीं चला रहा था। 

चालान के करोड़ों अभी बाकी 
सूत्रों के अनुसार, वर्ष 2019 में सीसीटीवी कैमरे और पुलिस डिवाइस की मदद से भेजे गए ई चालान की रकम वसूल की गई। बिना हेलमेट के वाहन चलाने वाले 2898 चालकों ने 14 लाख 49 हजार रुपए का ई-चालान जमा किया, जबकि 24 हजार 555 चालकों ने करीब 1 करोड़ 22 लाख 77 हजार 500 रुपए का चालान जमा नहीं किया। पुलिस  डिवाइस से बिना हेलमेट वाले 22 हजार 389 चालकों ने 1 करोड़ 11 लाख 94 हजार 500 रुपए का ई-चालान जमा किया, जबकि पुलिस डिवाइस से भेजा गया 17 हजार 996 चालकों ने 89 लाख 98 हजार रुपए का ई-चालान जमा नहीं किया। सीसीटीवी कैमरे से बिना सीट बेल्ट के 2930 चालकों को 5 लाख 86 हजार रुपए का ई-चालान भेजा गया। यह वसूल हो गया, सीसीटीवी से बिना सीट बेल्ट वाले 9682 चालकों ने 19 लाख 36 हजार 400 रुपए का ई-चालान जमा नहीं किया। बिना सीट बेल्ट के डिवाइस के माध्यम से 11 हजार 729 चालकों को 23 लाख 45 हजार 800 रुपए का ई-चालान भेजा गया।

यह चालान जमा हुआ, जबकि डिवाइस से भेजा गया 1100 चालकों ने 2 लाख 20 हजार रुपए का चालान जमा नहीं किया। सीसीटीवी से ट्रिपल सीट के 184 वाहनों को भेजा गया 36 हजार रुपए का ई-चालान जमा किया। 1782 चालकों ने सीसीटीवी के 3 लाख 56 हजार 400 रुपए का ई-चालान जमा नहीं किया। डिवाइस से  ट्रिपल सीटवाले 14 हजार 580 चालकों को 29 लाख 16 हजार रुपए का ई-चालान भेजा गया जो जमा किया गया। डिवाइस से भेजा गया 2025 चालकों ने 4 लाख 5 हजार रुपए ई-चालान का जमा नहीं किया। खतरनाक ड्राइविंग करने वाले 3697 चालकों को 36 लाख 97 हजार रुपए का डिवाइस के मार्फत ई-चालान भेजा गया, जो जमा किया गया। 3274 वाहन चालकों ने 32 लाख 74 हजार रुपए ई-चालान जमा नहीं किया, जो कि पुलिस डिवाइस से भेजा गया था।  
 

कमेंट करें
y9xQO