comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

चिखलीकलां के पोल्ट्री फार्म में ढाई हजार मुर्गी के चूजों की मौत, चूजों को जांच के लिए भोपाल भेजा

चिखलीकलां के पोल्ट्री फार्म में ढाई हजार मुर्गी के चूजों की मौत, चूजों को जांच के लिए भोपाल भेजा


डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। जिला मुख्यालय से तरकीबन 25 किमी दूर मोहखेड़ विकासखंड के चिखलीकलां गांव के पोल्ट्रीफार्म में ढाई हजार से अधिक मुर्गियों के चूजे मृत मिले है। गांव में एक साथ ढाई हजार से ज्यादा चूजों के मृत मिलने के बाद दहशत का माहौल बन गया है। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे पशुचिकित्सा विभाग के अमले ने पीपीई किट पहनकर इन चूजों का परीक्षण किया। दो मृत चूजों को भोपाल जांच के लिए लैब भेजा गया है। वहीं शेष मृत चूजों को गाइड-लाइन के अनुसार दफना दिया गया है। यहां पशु चिकित्सकों का कहना है कि मृत चूजों में प्राथमिक जांच में बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं दिखेे है लेकिन एहतियातन इसकी रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ जा सकता है।  वहीं पोल्ट्री फार्म संचालक ने चूजों के मृत होने पर जहर की आशंका जताई है, जिसकी लिखित शिकायत पुलिस से की है। अब इस मामले में पशु चिकित्सा विभाग की ओर से भेजे गए सेम्पल की रिपोर्ट आने के बाद पुलिस भी इस मामले में जांच कर पाएगी।
एक माह पहले ही लिए थे चूजे
चिखलीकलां ग्राम निवासी शमशेर ने एक माह पहले ही अपना व्यवसाय स्थापित करने के लिए तीन हजार मुर्गियों के चूजे ब्रायलर प्रजाति के लिए थे। पुलिस को की शिकायत में शमशेर ने बताया कि बुधवार रात को रोज की तरह वह पोल्ट्री फार्म में चूजों को दाना-पानी देकर चला गया था। अगले दिन गुरुवार सुबह जब वह पोल्ट्री फार्म वापस आया तो ढाई हजार चूजे मृत मिले थे। उसने आशंका जताई है कि चूजों को दिए जाने वाले पानी के टांके में कीटनाशक या जहरीला पदार्थ मिलाया गया है।
रिपोर्ट आने के बाद पुलिस करेगी जांच
मोहखेड़ थाना प्रभारी महेन्द्र मिश्रा ने बताया कि पोल्ट्री फार्म संचालक शमशेर ने शिकायत की है कि चूजों को दिए जाने वाले पानी में किसी ने कीटनाशक या जहरीला पदार्थ मिलाया है। फिलहाल पशु चिकित्सकों ने बर्ड फ्लू को देखते हुए सेम्पल लिए है। जांच के लिए भोपाल भेजे गए बर्ड फ्लू के सैंपल की रिपोर्ट  निगेटिव आने के बाद ही जांच की जाएगी। श्री मिश्रा ने बताया कि चूजों को दिया गया दाना पानी का सेम्पल लिया गया है, जिसे सागर लैब में जांच के लिए भेजा जाएगा।
पशु चिकित्सक का कहना
 पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक डॉ पक्षवार का कहना है कि उन्हें चूजों के मरने की खबर मिलने के बाद वे पीपीई किट से लैस टीम के साथ मृत चूजों की जांच करने पहुंचे थे, यहां पर तकरीबन ढाई हजार से ज्यादा चूजे मृत मिले है। प्राथमिक तौर पर इन चूजों में बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं दिख रहे है, एहतियातन दो मृत चूजों को रात को ही भोपाल लैब जांच के लिए भेजा जा रहा है। रिपोर्ट आने के बाद कुछ कहा जा सकेगा। यहां पर पोल्ट्री फार्म संचालक ने पानी में जहर या कीटनाशक होने की आशंका जताई है जिसकी जांच पुलिस कर रही है।
- चिखलीकलां के पास एक पोल्ट्री फार्म में मुर्गी के चूजे मरने की सूचना मिलने के बाद पशु चिकित्सा विभाग की टीम और हम सभी पहुंचे थे। मृत चूजों के सैम्पल भोपाल जांच के लिए भेजे जा रहे है। यहां पर चूजों को दिए जाने वाले पानी और दाना के सेम्पल लिए गए है। जहर की आशंका जताई जा रही है जांच के बाद ही तय हो पाएगा।
- मीना दशरिया, तहसीलदार मोहखेड़

पांढुर्ना में मृत मिले तीन पक्षी
पांढुर्ना शहर के दो अलग-अलग वार्डों में बीते दो दिनों में तीन पक्षी मृत अवस्था में मिले। बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौत की आशंका के चलते वार्डवासी दशहत में आ गए। बुधवार की सुबह शहर के रानी दुर्गावती वार्ड में सतरंगी पक्षी मृत पड़ा मिला। स्थानीय लोगों ने उसकी मौत का कारण समझने की कोशिश की, पर इसका कारण स्पष्ट नही हो सका। गुरूवार की सुबह भी इसी क्षेत्र में एक और पक्षी मृत अवस्था में मिला। जिससे लोगों में डर बना हुआ है। इसके अलावा बुधवार को ही उर्दू स्कूल के समीप खुले मैदान में भी एक कौआ मृत अवस्था में मिलने की खबर मिली थी। हालांकि इन दोनों पक्षियों की मौत के बारे में पशु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को सूचना नहीं दी गई है। इसके अलावा चौरई के परसगांव सर्रा में दो कौंए और एक चिडिय़ा मृत मिली है।

कमेंट करें
0vLZD