comScore

बेमौसम बारिश बर्बाद हुआ सोयाबीन, धान कपास और संतरा, केन्द्रीय टीम ने लिया जायजा

बेमौसम बारिश बर्बाद हुआ सोयाबीन, धान कपास और संतरा, केन्द्रीय टीम ने लिया जायजा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। केंद्रीय टीम ने बेमौसम बारिश से हुई फसल नुकसान का सोमवार को जायजा लिया। चंद्रपुर से लौटकर टीम सीधे भिवापुर पहुंची और तीन गांवों में पहुंचकर फसल नुकसान का जायजा लिया। दौरे में इनके साथ विभागीय आयुक्त डा. संजीवनकुमार व जिलाधीश रवींद्र ठाकरे प्रमुखता से शामिल थे। केंद्रीय टीम मंगलवार को अपनी रिपोर्ट दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्रालय की समिति के समक्ष रखेगी। 

बेमौसम बारिश से जिले में  सोयाबीन, धान, कपास, संतरा, फल बागायत व सब्जी का नुकसान हुआ है। केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्रालय के कपास विकास संचालक आर.पी. सिंह ने गांवों में जाकर फसल नुकसान का जायजा लेने के साथ ही विभागीय आयुक्त डॉ. संजीव कुमार, जिलाधीश रवींद्र ठाकरे, जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी कमलकिशोर फुटाणे, राजस्व उपायुक्त सुधाकर तेलंग, कृषि सहसंचालक रवींद्र भोसले, जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी मिलिंद शेंडे से फसल नुकसान पर चर्चा भी की। नागपुर जिले में 54 हजार से ज्यादा हेक्टेयर क्षेत्र में फसल का नुकसान हुआ है। 1 लाख 19 हजार से ज्यादा किसान प्रभावित हुए हैं। नागपुर सहित पूरे विभाग में हुए नुकसान का जायजा लिया गया है। राजस्व विभाग की तरफ से फसल नुकसान संबधी रिपोर्ट केंद्रीय टीम को दी गई है। 

राहत राशि बांटना शुरू
जिलाधीश रवींद्र ठाकरे ने बताया कि फसल नुकसान पर आर्थिक मदद के तौर पर घोषित 13 करोड़ की निधि की पहली किस्त मिल गई आैर पीड़ित किसानों को इसका वितरण शुरू हो गया है। अगस्त से लेकर अक्टूबर तक हुए नुकसान का मुआवजा एक किसान को एक बार ही मिलेगा। 

बेमौसम बारिश से रबी का क्षेत्र बढ़ेगा 
जिले में इस बार रब्बी का क्षेत्र बढ़ने की पूरी उम्मीद है। रबी फसल के लिए पानी की जरूरत होती है। जिले में जिसतरह बारिश हुई, उससे रबी का क्षेत्र बढ़ेगा। जिलाधीश श्री ठाकरे ने कहा कि जिले में 60 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में रबी की फसल होती थी। इस बार इसमें वृद्धि होगी। अच्छी बारिश होने से ये वृद्धि हो रही है।
 

कमेंट करें
MQIBz