दैनिक भास्कर हिंदी: विधान भवन पर 1 मई को लहराया जाएगा विदर्भ का झंडा, BJP पर वादाखिलाफी का आरोप

April 29th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। स्वतंत्र विदर्भ आंदोलन से सरकार के कान में जूं नहीं रेंगने पर विदर्भ राज्य आंदोलन समिति ने अब 1 मई को विधान भवन पर विदर्भ का झंडा लगाने के लिए कमर कसी है। चुनाव प्रचार में BJP ने सत्ता में आने के बाद विदर्भ राज्य बनाने का जनता से वादा किया था। सत्ता में आने के बाद सरकार ने वादाखिलाफी की है। इसे विरोध करने के लिए अब सीधे विधान भवन पर झंडा लगाने का निर्णय लिया गया। जिसकी जानकारी विदर्भ राज्य आंदोलन समिति के नेता वामनराव चटप ने शनिवार को पत्र परिषद में दी। चटप ने कहा कि जब तक विदर्भ अलग नहीं होगा, यहां का विकास नहीं हो सकता। यह बात विदर्भ की जनता भलीभांति जान चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का 4 साल का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। BJP ने सन् 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। लेकिन  2014 के चुनाव प्रचार में स्वतंत्र विदर्भ का वादा पूरा नहीं किया गया। जबकि BJP छोटे राज्यों की समर्थक है। अटलबिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री कार्यकाल में उत्तरांचल, छत्तीसगढ़ और झारखंड बनाए गए छोटे राज्य विकास के मॉडेल है। 

विदर्भ की आवाज उठाने की हिम्मत नहीं 
अलग होने पर इन राज्यों ने तेजी से विकास किया है। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल में एक भी नया राज्य नहीं बनाया गया है। BJP कार्यकारिणी सभा में स्वतंत्र विदर्भ का प्रस्ताव पारित कर चुकी है। अपनी ही पार्टी के एजेंडे पर मोदी अमल नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सत्ता में आने से पहले स्वतंत्र विदर्भ के मुद्दे पर बड़े-बड़े भाषण करते रहे। सत्ता में आने के बाद सीमेंट सड़के बनाने तक सीमित रह गए।

सीमेंट सड़कों में विदर्भ का विकास नहीं आंका जा सकता। प्रधानमंत्री के सामने एक बार भी विदर्भ की आवाज उठाने की हिम्मत नहीं दिखाई, यह विदर्भ की जनता का दुर्भाग्य है। अब सरकार से विदर्भ राज्य की उम्मीद नहीं रही है। इसलिए सीधे विधान भवन पर विदर्भ का झंडा लगाया जाएगा। विदर्भ की लड़ाई लड़ रहे संगठनों का इस आंदोलन को समर्थन मिला है। 

यशवंत स्टेडियम से निकलेगा विदर्भ मार्च 
1 मई को दोपहर 12 बजे विदर्भवादी यशवंत स्टेडिम में इकट्ठा होंगे। वहां से 12.30 बजे विदर्भ मार्च विधान भवन के लिए कूच करेगा। संविधान चौक पहुंच कर विधान भवन पर विदर्भ का झंडा लगाया जाएगा। विदर्भ के सभी जिलों से हजारों विदर्भवादी आंदोलन में शामिल होंगे।