comScore

वुमन भास्कर क्लब का तुलसी महोत्सव 9 को, वर्कशॉप एवं सरप्राइज गिफ्ट

वुमन भास्कर क्लब का तुलसी महोत्सव 9 को, वर्कशॉप एवं सरप्राइज गिफ्ट

डिजिटल डेस्क, नागपुर। ‘दैनिक भास्कर’ वुमन भास्कर क्लब प्रस्तुत तुलसी महोत्सव का आयोजन 9 नवंबर को दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक अग्रवाल भवन किराना ओली, कामठी में किया गया है। तुलसी महोत्सव प्रतियोगिता सिर्फ महिलाओं के लिए है। इस अवसर पर  फैशन-शो, पूजा की थाली की सजावट, पाक कला स्पर्धाओं का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं के लिए मायक्रोवेव वर्कशॉप एवं सरप्राइज गिफ्ट भी रखे गए हैं। अधिक जानकारी के लिए दैनिक भास्कर कार्यालय मो. 9518360992, वर्षा शर्मा मो. 9834547326, सुनीता अग्रवाल मो. 7020881474 पर संपर्क करें।

- प्रतियोगिता संबंधी नियम व शर्तें -
प्रतियोगिता में प्रवेश के लिए 7 नवंबर तक पंजीयन कराएं।
फैशन-शो (फैंसी ड्रेस) में महिलाएं घर से तैयार हाेकर आएं।
पूजा की थाली घर से सजाकर लाएं।
पाक कला में कोई भी मीठा पकवान घर से बनाकर लाना होगा।
जजेस का निर्णय अंतिम व सर्वमान्य होगा।
प्रतियोगिता के सर्वाधिकार ‘दैनिक भास्कर’ के पास सुरक्षित है।

रंगोली में बनाई कृष्ण की छवि
माधवी सखी मंच ने हर्षोल्लास के साथ दीपावली मिलन समारोह का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारंभ मां लक्ष्मी की अारती व पूजन के साथ किया गया। उपरांत लेडीज ने एक-दूसरे को दिवाली की बधाई दी। 
मनोरंजन के लिए विभिन्न गेम्स का आयोजन किया गया, जिसमें म्यूजिकल चेयर, डांस, हाउजी का आयोजन किया गया। सभी ने गेम्स का आनंद लिया। सौम्या अग्रवाल ने रंगोली में कृष्ण की छवि बनाई। कार्यक्रम को सफल बनाने में सुनीता भाऊका, अंजू अग्रवाल, सपना अग्रवाल तृप्ति झुनझुनवाला, रुचि अग्रवाल, उषा जैन, अंकिता, मोनिका शीतल, शिखा, अंजू निर्मला, सुलेखा लीना, रजनी चंचल का योगदान रहा।

आरेंज सिटी गुजराती महिला मंडल का दिवाली मिलन
ऑरेंज  सिटी गुजराती महिला मंडल की ओर से दिवाली व नूतन वर्ष के उपलक्ष्य में स्नेह-मिलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि एमएसएई के समन्वयक कीर्तिदा अजमेरा ने दीप प्रज्वलन किया। इस अवसर पर नगरसेविका चेतना टांक मुख्य रूप से उपस्थित थीं। अतिथियों का स्वागत संस्था अध्यक्ष चारू देसाई ने किया। कार्यक्रम में महिलाओं के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। प्रतियोगिताओं में विजयी रीना शाहर, कविता वोरा, कृति राठी, उषा ठक्कर रहीं। निर्णायक की भूमिका  सीमा कोठारी, नम्रता कोठारी रहीं। मंच संचालन उपाध्यक्ष प्रियल शाह ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सचिव हर्षाबेन खारा, कोषाध्यक्ष आरती कल्याणी व जनसम्पर्क अधिकारी उर्वशी शाह का योगदान रहा। 

एकता और फिट रहने का संदेश
इस अवसर पर रीना शाह ने अपने पति के लिए  नृत्य और कविता  वोरा ने अपने पति के लिए गाना गाया। दोनों ने अपने पति के साथ के सफर को दोहराया। भारती राजा ने प्रोप (नमक) को लेकर परिवार की एकता (गृहलक्ष्मी) पर प्रकाश डाला। उमा हरगण ने पीढ़ियों से चली आ रही परंपरा के बारे में बताया। साथ ही खुद को फिट रखने के लिए टिप्स दिए। दीपिका महेता ने रसोईघर की जिम्मेदारियों को साझा किया, तो  राखी शाह ने भी परिवार, कुटुंब क्या होता है, इससे सभी को  अवगत कराया। कृति राठी ने प्रोप व डांस के सहारे नौकरी व हाउस वाइफ की जिम्मेदारियों की बात को रखा। उषा ठक्कर ने पांच बातों से अपने अनुभवों को शेयर किया।  

कमेंट करें
AqfS0
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।