comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मेहनत व आत्मविश्वास हो तो शिखर को छू सकते हैं : बांडेबुचे

मेहनत व आत्मविश्वास हो तो शिखर को छू सकते हैं : बांडेबुचे

डिजिटल डेस्क, नागपुर । साधना, परिश्रम, महत्वाकांक्षा, आत्मविश्वास और लगन के बल पर सफलता के शिखर को छू सकते हैं। यह बात माऊंट एवरेस्ट फतह करने वाले प्रणय बांडेबुचे ने कही। बावणे कुणबी समाज की प्रतिभाओं का सत्कार बावणे कुणबी समाज मंडल की ओर से रामनगर स्थित समाज सभागृह में आयोजित समारोह में किया गया।

 इस अवसर पर बतौर विशेष अतिथि बांडेबुचे बोल रहे थे। प्रमुख अतिथि के रूप में एड. विवेक ठवकर, उद्योगपति रत्नाकर ठवकर, राजेंद्र कुथे, कृष्णराव लुटे, मंडल के अध्यक्ष दत्तात्रय निंबार्ते उपस्थित थे। अध्यक्षता अमरावती बा.कु.स. के अध्यक्ष भगवंतराव ईश्वरकर ने की। इस अवसर पर राष्ट्रीय तैराक वंदना कडव, भारतीय क्रिकेट महिला टीम का प्रतिनिधित्व करने वाली खिलाड़ी कोमल झंझाड के अलावा शिक्षा, खेल तथा सांस्कृतिक क्षेत्र के 95 विद्यार्थियों का सत्कार किया गया।  एड. विवेक ठवकर ने कहा कि सफलता का सूत्र है कठोर परिश्रम। ईश्वरकर ने कहा कि सफलता-असफलता की परवाह किए बिना प्रयास करते रहे। सफलता अवश्य मिलेगी। मंडल के सचिव बाबा तुमसरे ने अतिथियों का स्वागत किया।  प्रास्ताविक ममता भोयर तथा संचालन डा. अविनाश तितिरमारे व डा. कविता मते ने किया। आभार कुसुम झंझाल ने माना। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मदन शेंडे, सुनील कुकडे, कमलेश ठवकर, देवेंद्र भुते, डा. विलास रेहपाडे, दामोदर सामंत, नितीन राखडे, विष्णु भुते, राजू गोडबोले, चंद्रकांत तिजारे, विलास सेलोकर, सुधा वहले, विभा भोतमागे, माधवी रेहपाडे आदि ने प्रयास किया।

पंजाबी युवक युवती परिचय सम्मेलन नवंबर में 
सनातन धर्म युवक सभा नागपुर की ओर से 27वां राष्ट्रीय परिचय सम्मेलन फरवरी माह में कड़बी चौक स्थित सनातन भवन में आयोजित किया जाएगा। महासंघ के राष्ट्रीय सचिव नरेंद्र सतीजा ने एक विज्ञप्ति में बताया कि अखिल भारतीय पंजाबी समाज के विवाह योग्य युवक-युवती राष्ट्रीय परिचय सम्मेलनों की घोषणा की गई है। छत्तीसगढ़ पंजाबी सनातन सभा के तत्वावधान में 9 व 10 नवंबर को  23वां परिचय  सम्मेलन का आयोजन जोराग्राम स्थित पंजाब केसरी भवन में किया जाएगा। पंजाबी समाज विकास संस्था का 18वां आयोजन रविवार 22 दिसम्बर को मानसरोवर जयपुर स्थित बाबुल पैराडाइज मैरिज गार्डन में होगा। इसके अलावा भोपाल पंजाबी समाज का 25वां सम्मेलन 21 और 22 दिसम्बर को हमीदिया रोड स्थित गुरुद्वारा नानकसर में आयोजित होगा। आवश्यक जानकारी हेतु नरेंद्र सतीजा से संपर्क किया जा सकता है।
 

कमेंट करें
5qB8K
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।