दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोनावायरस: फ्रेंचाइजियों की BCCI से अपील, स्थगित और रद्द करने की जगह बिना दर्शकों के हो IPL

March 13th, 2020

हाईलाइट

  • इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की आठ फ्रेंचाइजियां BCCI के साथ बैठक का इंतजार
  • कल बैठक में IPL के 13वें सीजन के भविष्य को लेकर फैसला लिया जाएगा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनिया भर के तमाम देशों के साथ-साथ कोरोनावायरस जिस तरह से भारत में अपनी जड़ें फैला रहा है, उसे देखते हुए इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की आठ फ्रेंचाइजियां BCCI के साथ बैठक का इंतजार कर रही हैं। ताकि लीग के 13वें संस्करण को लेकर फैसला लिया जा सके। फ्रेंचाइजी के एक अधिकारी ने कहा कि धीरे-धीरे चीजें हमारे हाथ से जा रही हैं क्योंकि एक-एक कर के सभी राज्य सरकारें यह साफ कर रही हैं कि वह IPL मैच आयोजित नहीं कराएंगी और इसे कराने का एक ही तरीका है वो भी बिना दर्शकों के।

अधिकारी ने कहा, अब आप सरकार ने कहा दिया है कि वह भीड़ जुटने के डर से IPL मैच आयोजित नहीं कराएंगी। ऐसे ही अगर सभी शहर 1-1 कर के मैचों के आयोजन के लिए मना कर देते हैं तो आप मैचों की मेजबानी कहां करेंगे। ऐसे में बिना दर्शकों के मैच कराने के बजाए कोई तरीका नहीं है। इस तरह की स्थिति में सबसे बुरी बात यह होता है कि आपको पता नहीं होता कि हालात और खराब होंगे या सुधरेंगे।

आपको क्या पता कि चीजें 15 अप्रैल तक ठीक हो जाएं?
अधिकारी ने कहा, आपको क्या पता कि चीजें 15 अप्रैल तक ठीक हो जाएं? क्या पता स्थिति और बुरी होगी? यह गंभीर मुद्दा है और हम कल होने वाली बैठक के बाद ही कुछ बोल सकते हैं। एक और फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने इस बात में हामी भरते हुए कहा कि, लीग को स्थागित करना विकल्प नहीं हो सकता क्योंकि बाद में टीमों को फिर आपने विदेशी खिलाड़ियों के बिना खेलना होगा।

अधिकारी ने कहा, हमने अपनी टीम चार विदेशी खिलाड़ियों को ध्यान में रखकर बनाई है। अगर यह लीग भी बिना विदेशी खिलाड़ियों के खेली जाती है तो यह सैयद मुश्ताक अली, विजय हजारे ट्रॉफी की तरह ही घरेलू टूर्नामेंट बन जाएगा। इस लीग के वर्चस्व को बरकरार रखने के लिए जरूरी है कि विदेशी खिलाड़ी इसमें हों। जब यह बात आती है तो किसी तरह से विचारों में भिन्नता नहीं है। इस समय बिना दर्शकों के लीग को आयोजित करना सबसे सही विकल्प है ना कि स्थागन।

IPL का आयोजन मैदानों के बिना नहीं कर सकते
तीसरे अधिकारी ने कहा कि, BCCI के लिए यह जरूरी है कि वह केंद्र सरकार में संबंधित अधिकारियों से बात करें और विदेशी खिलाड़ियों को वीजा दिलवाएं और साथ ही मैचों की मेजबानी के लिए जरूरी अनुमति लें। अधिकारी ने कहा, हम सभी विदेशी खिलाड़ियों और उनके वीजा को लेकर बात कर रहे हैं, लेकिन आप IPL का आयोजन मैदानों के बिना नहीं कर सकते। इसलिए यह जरूरी है कि BCCI अधिकारी संबंधित अधिकारियों के साथ बैठें और जरूरी मंजूरी लें। मंत्रियों की बुधवार को हुई बैठक में सभी तरह के वीजा रद्द कर दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...