comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ENG VS PAK: तीसरा मैच आज, इंग्लैंड के पास लगातार छठी टी-20 सीरीज जीतने का मौका


हाईलाइट

  • इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच टी-20 सीरीज आखिरी मैच आज मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड स्टेडियम में खेला जाएगा
  • तीन मैचों की टी-20 सीरीज में इंग्लैंड 1-0 से बढ़त बनाए हुए है, दूसरे मैच में पाकिस्तान को 5 विकेट से हराया था

डिजिटल डेस्क। इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच टी-20 सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच आज मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड स्टेडियम में खेला जाएगा। मैच का प्रसारण भारतीय समयानुसार रात 10:30 बजे से होगा। तीन मैचों की टी-20 सीरीज में मेजबान इंग्लैंड 1-0 से बढ़त बनाए हुए है। सीरीज के दूसरे मैच इंग्लैंड ने पाकिस्तान को 5 विकेट से हराया था। वहीं पहला मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था। 

अब इंग्लैंड के पास लगातार छठी टी-20 सीरीज जीतने का मौका है। वहीं पाकिस्तान मैच जीतकर सीरीज में बराबरी करना चाहेगी। दोनों टीमों के बीच इंग्लैंड में पहली बार 3 मैचों की टी-20 सीरीज खेली जा रही है। इससे पहले दोनों टीमों के बीच 2010 में 2 मैचों की टी-20 सीरीज खेली गई थी, जिसमें मेजबान इंग्लैंड ने क्लीन स्वीप किया था।

हेड टु हेड
दोनों देशों के बीच अब तक 17 टी-20 मैच खेले गए हैं। जिसमें से इंग्लैंड 11 और पाकिस्तान सिर्फ 4 मैच जीता है, जबकि एक मैच टाई रहा था। वहीं इंग्लैंड में भी पाकिस्तान का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है। पाकिस्तान ने इंग्लैंड में अब तक 8 टी-20 मैच खेले हैं। जिसमें से उसने 2 मैच ही जीते हैं, जबकि 5 मैचों में उसे शिकस्त झेलनी पड़ी है।

वहीं दोनों टीमों के बीच टी-20 सीरीज की बात करें तो यहां भी इंग्लैंड का पलड़ा भारी है। इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच अब तक 7 टी-20 सीरीज खेली गई है। जिसमें से इंग्लैंड ने 4 और पाकिस्तान ने 2 सीरीज जीती हैं। वहीं एक सीरीज ड्रॉ भी रही है। वहीं, अपने घर में इंग्लैंड का यह रिकॉर्ड बराबरी पर रहा है। पाकिस्तान ने मेजबान के खिलाफ 4 में से 2 सीरीज जीती हैं और 2 में उसे हार का सामना करना पड़ा है। 

टीमें -

इंग्लैंड: इयोन मोर्गन (कप्तान), मोइन अली, जॉनी बेयरस्टो, टॉम बेंटन, सैम बिलिंग्स, टॉम करन, जो डेनली, लुइस ग्रेगोरी, क्रिस जॉर्डन, साकिब महमूद, डेविड मलान, आदिल राशिद, जेसन रॉय और डेविड विली।

पाकिस्तान: बाबर आजम (कप्तान), फखर जमान, हैदर अली, हेरिस रऊफ, इफ्तिखार अहमद, इमाद वसीम, खुशदिल शाह, मोहम्मद हफीज, मोहम्मद हसनैन, मोहम्मद रिजवान, मोहम्मद आमिर, नसीम शाह, सरफराज अहमद, शादाब खान, शाहीन शाह अफरीदी, शोएब मलिक और वहाब रियाज।

कमेंट करें
KDW6j
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।