comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

WC 2019: भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हराया, रोहित-राहुल ने जड़े शतक


हाईलाइट

  • रोहित-राहुल ने शतकीय पारी खेली, बुमराह ने 3 विकेट झटके
  • रोहित ने 94 गेंदों में 103 और राहुल ने 118 गेंदों में 111 रन बनाए
  • मैथ्यूज ने भी शतक जड़ा, 128 गेंदों में 10 चौके और दो छक्कों की मदद से 113 रन बनाए

डिजिटल डेस्क, लीड्स। ICC वर्ल्ड कप में शनिवार को अपने आखिरी लीग मैच में भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से मात दे विजयी क्रम जारी रखा है। भारत की इस जीत के हीरो उसकी रोहित शर्मा और लोकेश राहुल की सलामी जोड़ी रही। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका ने 50 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 264 रनों का सम्मानजनक स्कोर दिया। जवाब में भारत ने राहुल और रोहित के शतकों के दम पर इस लक्ष्य को 43.3 ओवरों में 3 विकेट खोकर हासिल कर लिया।

रोहित ने वर्ल्ड कप के एक सीजन में जड़े पांच शतक

इस मैच में रोहित ने कुछ और रिकार्ड अपने नाम किए। रोहित ने 94 गेंदों पर 14 चौके और 2 छक्कों की मदद से 103 रन बनाए। यह उनका इस वर्ल्ड कप में पांचवां शतक है। इसी के साथ वह एक वर्ल्ड कप सीजन में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने श्रीलंका के ही पूर्व कप्तान कुमार संगाकारा को पीछे किया जिनके नाम एक वर्ल्ड कप में चार शतक का रिकार्ड है। 

रोहित ने की सचिन के रिकॉर्ड की बराबरी 

रोहित साथ ही सचिन तेंदुलकर की बराबरी करने में भी सफल रहे। सचिन वर्ल्ड कप इतिहास में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज हैं। उन्होंने 1992 से 2011 तक छह वर्ल्ड कप में छह शतक जमाए हैं। रोहित ने इस सूची में सचिन के बराबरी का स्थान हासिल कर लिया है। उनके हिस्से कुल छह वर्ल्ड कप शतक हो गए हैं। इस वर्ल्ड कप में पांच शतक के अलावा उन्होंने 2015 में भी एक शतक जमाया था।

राहुल ने जड़ा वर्ल्ड कप का पहला शतक

वहीं राहुल का यह पहला वर्ल्ड कप है और उनका यह पहला वर्ल्ड कप शतक भी है। रोहित और राहुल ने पहले विकेट के लिए 189 रन जोड़े और इसी के साथ वर्ल्ड कप में भारत के लिए पहले विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी के अपने ही पुराने रिकार्ड्स को तोड़ा। इन दोनों ने इससे पहले इसी वर्ल्ड कप में बर्मिघम में बांग्लादेश के खिलाफ खेले गए मैच में पहले विकेट के लिए 176 रन जोड़े थे। शतक पूरा करने के बाद रोहित, कासुन रचिथा की गेंद पर मिड ऑफ पर मैथ्यूज के हाथों लपके गए। राहुल ने 118 गेंदों का सामना कर 11 चौके और एक छक्का लगाया। ऋषभ पंत चार रन बना सके। कप्तान विराट कोहली 34 और हार्दिक पांड्या सात रन बनाकर नाबाद रहे। राहुल की पारी का अंत लसिथ मलिंगा ने किया।

वर्ल्ड कप में मलिंगा ने भी रचा इतिहास

राहुल के विकेट के साथ ही मलिंगा वर्ल्ड कप इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में तीसरे स्थान पर आ गए। उन्होंने पाकिस्तन के वसीम अकरम को चौथे स्थान पर पहुंचा दिया। अकरम के 1987-2003 तक खेले गए पांच वर्ल्ड कप में कुल 55 विकेट हैं। 2007 में अपना पहला वर्ल्ड कप खेलने वाले मलिंगा ने राहुल को वर्ल्ड कप में अपना 56वां शिकार बनाया। उनसे आगे श्रीलंका के ही मुथैया मुरलीधरन (68) और ऑस्ट्रेलिया के ग्लैन मैक्सवेल (71) हैं। यह मलिंगा का आखिरी विश्व कप है।

मैथ्यूज ने भी जड़ा शतक

इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनने वाली श्रीलंका एक समय 55 रनों पर ही अपने चार विकेट खो चुकी थी, लेकिन अभी तक बल्ले से विफल होते आ रहे मैथ्यूज ने आखिरी मैच में टीम को संभाला सम्मानजनक स्कोर प्रदान किया। वह 49वें ओवर की दूसरी गेंद पर जसप्रीत बुमराह का शिकार बने। मैथ्यूज ने 128 गेंदों का सामना कर 10 चौके और दो छक्कों की मदद से 113 रनों की शतकीय पारी खेली। मैथ्यूज को साथ मिला लाहिरू थिरिमाने का जिन्होंने 68 गेंदों पर आठ चौकों की मदद से 53 रनों की पारी खेली। इन दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 124 रनों की साझेदारी की। कुलदीप यादव ने थिरिमाने को आउट कर भारत को पांचवीं सफलता दिलाई। 

बुमराह ने तीन विकेट झटके

इन दोनों की साझेदारी जमने से पहले कप्तान दिमुथ करुणारत्ने (10), कुशल परेरा (18), कुशल मेंडिस (3) और अविश्का फर्नाडो (20) पवेलियन लौट चुके थे। करुणारत्ने और परेरा की सलामी जोड़ी को जसप्रीत बुमराह ने पवेलियन में बैठाया। मेंडिस, रवींद्र जडेजा का शिकार बने और फर्नाडो का विकेट हार्दिक पांड्या के हिस्से आया। छठा विकेट मैथ्यूज के रूप में गिरा। आखिरी ओवर में थिसारा परेरा दो के निजी स्कोर पर आउट हुए। धनंजय डी सिल्वा 29 रन बनाकर नाबाद लौटे। उनके साथ इसुरु उदाना एक रन पर नाबाद रहे। भारत के लिए बुमराह ने तीन विकेट लिए। भुवनेश्वर, हार्दिक, जडेजा और कुलदीप को एक-एक विकेट मिला। 

कमेंट करें
PJFVa
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।