दैनिक भास्कर हिंदी: गोबर से बनी है ''गणपति बप्पा'' की ये प्राचीन प्रतिमा

August 26th, 2017

डिजिटल डेस्क, महेश्वर। गणपति के अनेक मंदिरों की अलग-अलग मान्यताएं हैं। हर एक की अपनी कथा और महिमा है, लेकिन एक ऐसा भी स्थान है जिसका नाम भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करता है। विभिन्न नामों और रूपों से विपरीत इस मंदिर का नाम है गोबर गणेश। यहां मौजूद मूर्ति गोबर की है...

महेश्वर के गणपति

यह मध्य प्रदेश के निमाड़ क्षेत्र में नर्मदा नदी के किनारे बसे माहेश्वर में स्थित है। इस स्थान पर गणपति का एक अतिप्राचीन मंदिर है जिसका नाम गोबर गणेश है। इस स्थान को लेकर मान्यता है कि बप्पा अपने भक्तों की पुकार सुनने में तनिक भी देरी नहीं करते। गोबर गणेश मन्दिर से कोई खाली हाथ नहीं जाता। 

गुप्त कालीन मंदिर

विशेषज्ञ इसे गुप्त कालीन बताते हैं। हालांकि इस मंदिर की गुंबद मस्जिद नुमा बनावट की है, जिसे औरंगजेब कालीन परिवर्तन बताया जाता है। 

लक्ष्मी के लिए 

इस मंदिर की देखभाल श्री गोबर गणेश मंदिर जीर्णोद्धार समिति द्वारा किया जाता है। माना जाता है कि मिट्टी और गोबर की मूर्ति की पूजा पंचभूतात्मक होने तथा गोबर में लक्ष्मी का वास होने से इसे अतिशुभ माना गया है। लक्ष्मी और एश्वर्य की प्राप्ती के लिए इनकी पूजा की जाती है। 

खबरें और भी हैं...