दैनिक भास्कर हिंदी: Suicide case: अंकिता ने अपने घर के नेमप्लेट से अभी तक नहीं हटाया सुशांत का नाम 

June 20th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। खुद को सुशांत सिंह राजपूत का करीबी दोस्त बताने वाले प्रोड्यूसर संदीप सिंह ने अभिनेत्री अंकिता लोखंडे, जो कि कभी दिवंगत अभिनेता की गर्लफ्रेंड थीं, उनके लिए एक भावनात्मक पोस्ट किया है। सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा, प्रिय अंकिता, हर बीतते दिन के साथ एक विचार मुझे बार-बार सता रहा है। 

उन्होंने लिखा, काश .. काश .. हमने भी कोशिश की होती, हम उसे रोक सकते थे, हम उससे भीख मांग सकते थे! यहां तक कि जब आप दोनों अलग हो गए, तो आपने सिर्फ उसकी खुशी और सफलता के लिए प्रार्थना की .. आपका प्यार शुद्ध था। खास था।

अदा शर्मा बोलीं मुझे जोखिम लेना पसंद है

अंकिता और सुशांत छह साल से अधिक समय तक रिलेशनशिप में रहे और साल 2016 में उनका ब्रेकअप हो गया। वे एकता कपूर के टीवी शो पवित्रा रिश्ता के सेट पर एक-दूसरे से मिले थे। इस शो से ही सुशांत घर-घर में पहचाने जाने लगे और उन्हें स्टारडम हासिल करने में मदद मिली।

संदीप ने आगे कहा, आपने अभी भी अपने घर की नेमप्लेट से उसका नाम नहीं हटाया। मुझे उन दिनों की याद आती है, जब हम तीनों एक परिवार के रूप में लोखंडवाला में रहते थे, हमने कई ऐसे पल जीए, जो आज मुझे रुला रहे हैं.. एक साथ खाना बनाना, एक साथ खाना-पीना, एसी का पानी गिरना, हमारा विशेष मटन भात, हमारी उत्तान, लोनावाला या गोवा तक की लंबी ड्राइव! हमारी पागलों वाली होली! उन हंसी को हमने साझा किया, जीवन के वे संवेदनशील पल जिसमें हम एक दूसरे को थामे रहे। वे चीजें जो आप सुशांत के चेहरे पर हंसी लाने के लिए किया करती थी।

फिर से शूटिंग शुरू करने को लेकर असमंजस में हैं बॉलीवुड कलाकार

उन्होंने आगे लिखा, आज भी मेरा मानना है कि सिर्फ आप दोनों ही एक दूसरे के लिए बने थे। तुम दोनों सच्चे प्यार हो। ये ख्याल, ये यादें मेरे दिल को छलनी कर रही हैं .. मैं उन्हें वापस कैसे लाऊं! मैं उन्हें वापस चाहता हूं! मुझे हम तीन वापस चाहिए! मालपुआ याद है? और कैसे उसने छोटे बच्चे की तरह मेरी मां से मटन करी मांगा था।

उन्होंने आगे कहा, मुझे पता है कि सिर्फ आप ही उसे बचा सकती थीं। काश, तुम दोनों की शादी हो जाती जैसा कि हमने सपना देखा था। आप उसे बचा सकती थीं.. आप उसकी प्रेमिका, उसकी पत्नी, उसकी मां, हमेशा के लिए उसके सबसे अच्छी दोस्त थीं। आई लव यू अंकिता। मुझे उम्मीद है कि मैं आप जैसे दोस्त को कभी नहीं खो सकता। मैं इसे सहन नहीं कर पाऊंगा।