comScore

कश्मीर मुद्दा: दीवाली पर लंदन में भारत विरोधी मार्च, पाक मूल के मेयर ने की निंदा

कश्मीर मुद्दा: दीवाली पर लंदन में भारत विरोधी मार्च, पाक मूल के मेयर ने की निंदा

हाईलाइट

  • कश्मीर मुद्दे को लेकर लंदन में दीवाली के दिन भारत विरोधी मार्च
  • भारतीय मूल के नवीन शाह ने लंदन के मेयर को लिखा था पत्र
  • लंदन के मेयर सादिक खान ने इस विरोध प्रदर्शन की निंदा की है

डिजिटल डेस्क, लंदन। कश्मीर मुद्दे को लेकर लंदन में दीवाली के दिन भारत विरोधी मार्च निकाले जाने की योजना बनाई जा रही है। जिसकी लंदन के मेयर सादिक खान ने घोर निंदा की है। पाकिस्तानी मूल के खान ने कहा कि इससे ब्रिटेन की राजधानी लंदन में अलगाव को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने आयोजकों और इसमें शामिल होने वाले संभावित प्रदर्शनकारियों से विरोध मार्च रद्द करने की अपील की है।

रिपोर्ट के अनुसार इस मार्च में गुलाम कश्मीर के कथित राष्ट्रपति सरदार मसूद खान और प्रधानमंत्री राजा मुहम्मद फारूक हैदर खान के भी शामिल होने की संभावना है।

आयोजकों ने मांगी थी अनुमति
कश्मीर मुद्दे पर रैली के आयोजकों ने इसके लिए अनुमति मांगी थी। रविवार यानी कि दीवाली के दिन होने वाले इस विरोध प्रदर्शन में पांच से दस हजार लोग लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के सामने प्रदर्शन करने वाले थे। ब्रिटिश प्रधानमंत्री के आवास डाउनिंग स्ट्रीट के पास रिचमंड टेरेस से लेकर भारतीय उच्चायोग तक मार्च निकाले जाने की योजना है। 

नवीन शाह ने लिखा था पत्र
लंदन असेंबली के सदस्य और भारतीय मूल के नवीन शाह ने 17 अक्टूबर को लंदन के मेयर को संबोधित करते हुए लिखा था कि वो अपने क्षेत्र के जनप्रनिधि और उन संगठनों की तरफ से लिख रहा हूं। जिन्होंने दिवाली के दिन भारत विरोधी रैली को रोकने के लिए संपर्क किया था।

नवीन शाह ने अपने पत्र में लिखा है उनसे लोगों ने संपर्क कर कहा कि पवित्र त्योहार दिवाली के दिन भारत विरोधी मार्च पूरी तरह से असंवेदनशील है। नवीन शाह ने अपने पत्र को लंदन के मेयर के अलावा मेट्रोपॉलिटन पुलिस प्रमुख और ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल को भी ट्विटर पर टैग किया। 

शाह के पत्र के जवाब में मार्च की निंदा
नवीन शाह के पत्र के जवाब में पाकिस्तानी मूल के लंदन के मेयर सादिक खान ने एक पत्र जारी किया है। पत्र में लिखा है, ''मैं दिवाली के पावन अवसर पर भारतीय उच्चायोग के नजदीक तक विरोध मार्च निकालने की योजना की सख्त निंदा करता हूं।' उन्होंने लिखा जब लंदन के लोगों को साथ आने की जरूरत है ऐसे में इस विरोध-मार्च से अलगाव को बढ़ावा मिलेगा। जो भी इस रैली के आयोजक हैं और जो इसमें भाग लेने वाले हैं वो एक बार फिर से सोचें।''

खान ने पत्र में लिखा 'मैं ब्रिटिश भारतीयों की चिंता को समझता हूं। कई लोग भारतीय उच्चायोग के सामने हुए पहले के प्रदर्शनों से डरे हुए हैं। मैं लंदनवासियों को आश्वस्त करता हूं कि जो भी गैरकानूनी काम करेगा उसके लिए वो जिम्मेदार होगा।'

कमेंट करें
Gj7T2