दैनिक भास्कर हिंदी: NSG पर भारत को रूस का साथ, चीन ने कहा- हम अपने रूख पर कायम

December 8th, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्‍ली। परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) की सदस्‍यता हासिल करने की भारत की कोशिशों को रूस का साथ मिला है। रूस ने कहा है कि वह NSG की सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करता है और इसके लिए वह चीन को राजी करने की भी कोशिश कर रहा है। रूस के इस बयान पर चीन ने भी अपनी प्रतिक्रिया दे दी है। चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा है कि एनएसजी ग्रुप में किसी अन्य देश की एंट्री पर चीन अपने पहले वाले रूख पर ही कायम रहेगा।

भारत की NSG सदस्यता पर रूस की ओर से आया यह ताजा बयान पाकिस्तान और चीन के लिए एक झटके की तरह देखा जा रहा है। गौरतलब है कि चीन हमेशा से 48 सदस्यों वाले एनएसजी ग्रुप में भारत की एंट्री का विरोध करता रहा है। बता दें कि एनएसजी ग्रुप अंतरराष्ट्रीय स्तर पर परमाणु व्यापार को नियंत्रित करता है। भारत इस ग्रुप में शामिल होकर वैश्विक स्तर पर परमाणु व्यापार में अपनी पैठ जमाना चाहता है।

इस मसले पर रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव और भारतीय विदेश सचिव एस. जयशंकर की मुलाकात हुई। मुलाकात के दौरान रयाबकोव ने कहा, 'हम चाहते हैं कि भारत NSG में शामिल हो, हम इसके लिए कोशिश भी कर रहे हैं। इस मुद्दे पर चीन से भी बात जारी है।' अमेरिका की ओर इशारा करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि दूसरे देशों को भारत की सदस्यता के लिए और ज्यादा सकारात्मक प्रयास करने की जरूरत है।

NSG में भारत की दावेदारी से पाक की उम्मीदवारी को दरकिनार करते हुए रयाबकोव ने कहा, 'एनएसजी सदस्यता की दावेदारी के लिए पाकिस्तान के आवेदन पर कोई सर्वसम्मति नहीं है और इसे भारत की दावेदारी के साथ नहीं जोड़ा जा सकता। भारत का रिकॉर्ड परमाणु परीक्षण के मामले में गैर-प्रसार वाला रहा है, जबकि पाकिस्तान के बारे में ऐसा नहीं कहा जा सकता।'