comScore

पाकिस्तान आम चुनाव: नतीजों के बाद बोले इमरान- भारत से चाहते है अच्छे संबंध

July 27th, 2018 08:43 IST

हाईलाइट

  • पाकिस्तान चुनाव के बाद इमरान खान ने की पहली प्रेस कांफ्रेंस।
  • भारत-पाकिस्तान के बीच अच्छे संबंध बनाने की बात कही।
  • पाकिस्तान के मतदाताओं का इमरान ने किया शुक्रिया।

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान में चुनावी नतीजों के बीच पीटीआई नेता इमरान खान ने पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की। सबसे पहले इमरान ने कहा कि आज अल्लाह ने मुझे एक मौका दिया है, इसके लिए मैं अल्लाह का शुक्रगुजार हूं। मैं पाकिस्तान की आवाम का शुक्रिया अदा करता हूं। मेरी 22 सालों की मेहनत कामयाब हुई । इमरान खान ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस में भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत के जरिए संबंधो को सुधारने की बात कही। हालांकि चुनाव से पहले इमरान भारत और प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ बयान दे चुके हैं। 

इमरान ने भारत-पाकिस्तान विवाद को बातचीत से हल करने की वकालत की। उन्होंने कहा कि मुझे थोड़ा अफसोस हुआ कि भारत की मीडिया ने मुझे किसी बॉलीवुड फिल्म के विलन की तरह पेश किया है। मैं वो पाकिस्तानी हूं जो हिंदुस्तान में सबसे ज्यादा घूमा हूं। मैं वो पाकिस्तानी हूं जो चाहता है कि दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधरें। सबसे बेहतर होगा कि हम एक-दूसरे के बीच व्यवसाय करें। भारत-पाकिस्तान के बीच जो प्रमुख विवाद है वो कश्मीर है। वहां मानवाधिकार का मुद्दा है। दोनों देशों की कोशिश यह होनी चाहिए कि टेबल पर बैठकर बातचीत कर इस समस्या का हल करना चाहिए। अगर एक दूसरे पर आरोप लगाते रहेंगे तो सही नहीं है। मैं चाहूंगा कि अगर हिंदुस्तान की लीडरशिप तैयार है तो हम भी तैयार हैं। आप एक कदम बढ़ेंगे तो हम दो कदम बढ़ाएंगे। मैं पूरी कन्विक्शन से कह रहा हूं कि हम बातचीत से हल करें। 


इमरान ने पाकिस्तान की जनता को लेकर प्रेस कांफ्रेंस में कहा है कि मेरा पूरा फोकस गरीब तबकों के जीवन स्तर को सुधारने, कानून व्यवस्था और अर्थव्यवस्था को सुधारने पर फोकस होगा। इमरान ने कहा कि हमें अपने खर्च कम करने हैं और उसके बाद आय बढ़ानी है। तभी रोजगार पैदा होंगे। हम सभी सरकारी महलों को आम लोगों के लिए इस्तेमाल करेंगे। मैं खुद पीएम हाउस में नहीं रहूंगा। उन्होंने कहा कि टैक्स के पैसों का सही इस्तेमाल होगा। इसकी शुरुआत मैं करूंगा। हम टैक्स कल्चर ठीक करेंगे। मैं बलूचिस्तान के लोगों की दाद देना चाहता हूं। इस चुनाव में लोगों ने कुर्बानियां दी हैं। पिछली 22 साल की मेहनत आज कामयाब हुई है।
 


हम अपने कमजोर तबकों की जिम्मेदारी लें। जिसकी लाठी उसकी भैंस नहीं चलेगी। जिस देश की आधी से ज्यादा आबादी गरीबी रेखा से नीचे हो उसे हम कैसे अच्छी सरकार मान लें। हमारी कोशिश इंसानियत की बुनियाद पर होगी। मेरी कोशिश होगी कि हमारा पूरा जोर निचले तबके को कैसे ऊपर उठाया जाए ? इंसानी विकास कैसे किया जाए। एक देश की पहचान इससे नहीं होती कि उसके अमीर कैसे रहते हैं। बल्कि उसकी पहचान गरीबों की जीवन शैली से होती है। चीन ने 30 साल में 70 करोड़ लोगों को गुरबत से निकाला है। हमारे लिए मिसाल है। हम अप्रवासी पाकिस्तानियों को देश में व्यवसाय करने की दावत देंगे। हम ऐसी सरकार देंगे जो पहले कभी नहीं आई। हम सरकार में सादगी कायम करेंगे। अब तक के हुक्मरान पैसा अपने ऊपर खर्च करते हैं।

इमरान ने अन्य देशों के साथ पाकिस्तान के संबंधो को लेकर कहा कि हम अफगानिस्तान के साथ संतुलित रिश्ते चाहते हैं। ईरान हमारा हमसाया है, सऊदी अरब भी हमारे काफी करीब है। भारत से हम बातचीत के जरिए संबंध अच्छे बनाएंगे। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के मामले में इमरान खान ने चीन की मिसाल देते हुए उसकी तारीफ की।


 

कमेंट करें
lRN6A