दैनिक भास्कर हिंदी: India-China Tensions: मॉस्को में विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी समकक्ष वांग यी के बीच करीब ढाई घंटे चली बैठक

September 11th, 2020

हाईलाइट

  • एस जयशंकर और सर्गेई लावरोव के बीच हुई अच्छी बातचीत - विदेश मंत्रालय

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। लद्दाख में जारी सीमा विवाद के ​बीच रूस की राजधानी मॉस्को में विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी समकक्ष वांग यी के बीच बैठक ढाई घंटे तक चली। यह बैठक शंघाई सहयोग संगठन (SCO) से इतर हुई। बताया जा रहा है कि बैठक में पूर्वी लद्दाख के हालात पर चर्चा हुई। दोनों देशों के नेता SCO के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए मॉस्को में हैं। रात के करीब आठ बजे मॉस्को के कांग्रेस पार्क वोलकोंस्की होटल में बैठक शुरू हुई और करीब साढ़े दस बजे खत्म हुई।

मुलाकात को लेकर ग्लोबल टाइम्स ने क्या लिखा
विदेश मंत्रियों की मुलाकात पर चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा कि अगर भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक से सकारात्मक नतीजे नहीं निकले, या दोनों पक्ष समझौते पर अमल नहीं करते हैं तो यह एक खतरनाक संकेत हो सकता है। जिसका मतलब होगा कि चीन और भारत में शांति से समाधान निकलने की संभावना कम है। चीनी अखबार लिखता है चीन और भारत के विदेश मंत्रियों के बीच बैठक सीमा पर तनाव को कम करने लिए महत्वपूर्ण होगी।

तीनों देशों के विदेश मंत्रियों ने की मुलाकात
इससे पहले भारत स्थित रूसी दूतावास से मिली जानकारी के अनुसार शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में तीन देशों के विदेश मंत्रियों के बीच वैश्विक विकास, शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने पर बातचीत हुई। इसके अलावा रूस-भारत-चीन ने त्रिपक्षीय सहयोग के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय महत्व के सामयिक मुद्दों पर चर्चा की। 

एस जयशंकर और सर्गेई लावरोव के बीच हुई अच्छी बातचीत - विदेश मंत्रालय
इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि विदेश मंत्री एस जयशंकर की रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव के साथ अच्छी बातचीत हुई। उन्होंने कहा कि दोंनों के बीच द्विपक्षीय रणनीतिक संबंधों, क्षेत्रीय विकास और अंतरराष्ट्रीय मामलों पर चर्चा हुई।

रूसी विदेश मंत्री के साथ बैठक शानदार रही: जयशंकर
बता दें कि विदेश मंत्री एस जयशंकर शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक में शामिल होने के लिए चार दिवसीय रूस की यात्रा पर हैं। इस दौरान उन्होंने अपने रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव के साथ मुलाकात की। जयशंकर ने कहा कि रूसी विदेश मंत्री से उनकी शानदार बातचीत हुई है। मुलाकात के दौरान दोंनों के बीच द्विपक्षीय रणनीतिक संबंधों और अंतरराष्ट्रीय मामलों पर चर्चा हुई।

जयशंकर ने जताई थी खुशी
जयशंकर ने ट्वीट कर कहा था कि विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से इस बार व्यक्तिगत रूप से मिल कर खुशी हुई। बेहतरीन वार्ता हुई, जिसमें हमारे विशेष एवं विशेषाधिकार वाली रणनीतिक साझेदारी प्रदर्शित हुई। अंतरराष्ट्रीय स्थिति पर हमारे बीच हुई बातचीत काफी मायने रखती है।

भारतीय क्षेत्र में लगातार घुसपेठ करने कोशिश कर रही PLA
बता दें कि लद्दाख सीमा पर पिछले कुछ दिनों में हलचल बढ़ी है। चीन ने भारतीय क्षेत्र में लगातार घुसपैठ की कोशिश की है। 29-30 अगस्त की रात को पैंगोंग लेक के दक्षिणी छोर पर चीनी सैनिकों ने घुसपैठ की कोशिश की तो भारतीय सैनिकों ने उन्हें खदेड़ दिया। भारतीय क्षेत्र में घुसने की चीन की कोशिश यहीं नहीं रुकी। इसके बाद तीन दिन तक लगातार चीनी सैनिकों ने घुसपैठ की कोशिश की। चीन ने रेजांग ला पर कब्जा जमाने की भी कोशिश की थी और हथियारों के साथ करीब 50 सैनिक आ गए थे, लेकिन भारतीय जवानों ने फिर चीन की कोशिश को सफल नहीं होने दिया।

बेनतीजा रही रक्षामंत्रियों की मुलाकात
बता दें कि पिछले शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके चीनी समकक्ष जनरल वेई फेंगही के बीच एससीओ बैठक से अलग मॉस्को में बैठक हुई थी। बताया जा रहा है कि उसमें कोई ठोस नतीजा नहीं निकला।
 

खबरें और भी हैं...