comScore

US vs Iran: ईरान की सेना ने माना- यूक्रेन का विमान हमने गिराया


हाईलाइट

  • विमान में 176 लोग सवार थे
  • धोखे से यूक्रेन के विमान को मार गिराया था

डिजिटल डेस्क,तेहरान। ईरान की सेना ने मान लिया है कि तेहरान एयरपोर्ट पर बुधवार सुबह यूक्रेन के विमान को उन्होंने मार गिराया था। ईरान के सरकारी न्यूज चैनल के मुताबिक ईरान आर्मी ने अपनी गलती मान ली है और कहा कि धोखे से यूक्रेन के विमान को मार गिराया। बता दें इस विमान हादसे में 176 यात्रियों की मौत हो गई। विमान में सवार यात्रियों में सबसे अधिक 82 ईरान के ही थे। वहीं 63 कनाडा, 11 यूक्रेन, 10 स्वीडन, 4 अफगानिस्तान, 3 जर्मनी और तीन लोग यूके के थे। 
 

पीएम ट्रूडो ने संदेह जताया था

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भी हादसे पर संदेह जताया था। उन्होंने कहा था कि हादसे के साक्ष्य से भी पता चलता है कि विमान को सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल से मार गिराया है। उन्होंने हादसे की व्यापक जांच की मांग की थी। 

ईरान ने पहले नहीं स्वीकारा था

इससे पहले ईरान ने नहीं स्वीकारा था कि विमान को उन्होंने गिराया है। ईरान का कहना था कि जिस वक्त हादसा हुआ, उस समय अन्य फ्लाइट्स भी उड़ान भर रही थी। हम विमान के ब्लैक बॉक्स की जांच कर रहे हैं। अगर जरूरत पड़ी तो हम इसके डेटा का फ्रांस या अन्य देश में भी विश्लेषण कराने को तैयार हैं। 

ईरान परमाणु हथियार हासिल नहीं कर पाएगा-ट्रंप

इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जबतक वे अमेरिका के राष्ट्रपति हैं, ईरान परमाणु हथियार हासिल नहीं कर पाएगा। ट्रंप ने कहा कि, कासिम सुलेमानी आतंकी था, उसे पहले ही खत्म कर देना चाहिए था और हमने उसे खत्म कर दिया। वह ईरान की सेना का मुखिया था और वो ऐसी गतिविधियों में शामिल था, जो सही नहीं थी। सुलेमानी ने हिज्बुल्ला को बढ़ावा दिया। वह कई हमलों का मास्टर माइंड था। उसकी वजह से हजारों अमेरिकी सैनिकों की जान गई। हम ईरान पर और कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाने जा रहे हैं और ये प्रतिबंध तब तक जारी रहेंगे जब तक ईरान अपना रवैया बदलता नहीं है।

कमेंट करें
m0xL7