दैनिक भास्कर हिंदी: मानवीय त्रुटि के कारण हुआ था कराची विमान हादसा : रिपोर्ट

June 23rd, 2020

हाईलाइट

  • मानवीय त्रुटि के कारण हुआ था कराची विमान हादसा : रिपोर्ट

कराची, 23 जून (आईएएनएस)। पाकिस्तान के कराची में 22 मई को पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के यात्री विमान के हादसे की वजह मानवीय त्रुटि थी। प्राथमिक जांच रिपोर्ट में पता चला है कि दुर्घटना किसी प्रकार की तकनीकी गड़बड़ी की वजह से नहीं, बल्कि विमान के कॉकपिट चालक दल और हवाई यातायात नियंत्रण (एटीसी) की लापरवाही की वजह से हुई थी।

पाकिस्तानी अखबार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार को उच्च स्तरीय बैठक में एविएशन डिवीजन को सौंपी गई प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि जाहिर तौर पर विमान में कोई तकनीकी खराबी नहीं थी।

कुल आठ चालक दल के सदस्यों सहित 99 लोगों को लेकर जा रहा पीआईए का विमान पीके8303, कराची हवाई अड्डे के पास एक घनी आबादी वाले क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। यह दुर्घटना तब घटी, जब विमान उतरने का दूसरा प्रयास कर रहा था।

दुर्घटना में कुल 99 में से 97 लोगों की मौत हो गई थी। इसके अलावा आवासीय क्षेत्रों को भी काफी नुकसान पहुंचा था।

घटना के एक दिन बाद नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएए) ने अपने विमान दुर्घटना एवं जांच बोर्ड (एएआईबी) के अध्यक्ष एयर कमोडोर उस्मान गनी के नेतृत्व में एक जांच दल का गठन किया था।

टीम को 22 जून को अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया गया था।

एयर कमोडोर गनी ने सोमवार को विमानन विभाग के अधिकारियों को इस संबंध में जानकारी दी। रिपोर्ट के मुताबिक, पायलट और एटीसी के अधिकारी प्राथमिक रूप से दुर्घटना के लिए जिम्मेदार हैं।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, शुरुआती जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि सीएए कर्मचारी, कॉकपिट में बैठे चालक दल के सदस्य, विमान नियंत्रण टॉवर और एटीसी ने लगातार कई गलतियां की। रिपोर्ट में कहा गया कि ब्लैक बॉक्स में अभी तक तकनीकी खामी के कोई संकेत नहीं मिले हैं।

इसके अलावा रिपोर्ट में कहा गया कि जब पायलट ने पहली बार विमान उतारने की कोशिश की तब ऊंचाई और गति दोनों मानक से अधिक थी। रिपोर्ट में बताया गया है कि पहली बार विमान जब उतरने की कोशिश कर रहा था, तब इसके 9,000 मीटर लंबी हवाई पट्टी के मध्य में भूमि को स्पर्श किया। वहीं हवाई यातायात नियंत्रण कक्ष ने अधिक गति और ऊंचाई होने के बावजूद विमान को उतरने की अनुमति दी।

यही नहीं, पायलट ने भी लैंडिंग गियर के जाम होने की सूचना नियंत्रण टावर को नहीं दी। पायलट द्वारा विमान को दोबारा उतारने की कोशिश भी गलत फैसला था। रिपोर्ट के मुताबिक, पहली बार विमान उतारने की कोशिश नाकाम होने के बाद 17 मिनट तक वह हवा में उड़ता रहा, यह बहुत अहम समय था, जब विमान के दोनों इंजन ने काम करना बंद कर दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, विमान का इंजन 12 घंटे तक हवाई पट्टी पर रहा, लेकिन कर्मचारियों ने उसे नहीं हटाया और बाद में अन्य विमानों को भी वहां पर उतरने की अनुमति दे दी, जो मानक परिचालन प्रक्रिया का उल्लंघन है।

अखबार ने रिपोर्ट के हवाले से बताया कि हवाई यातायात नियंत्रण के कार्य में लगे कर्मचारियों को घटना के बाद छुट्टी दे देनी चाहिए लेकिन वे शाम सात बजे तक काम करते रहे। रिपोर्ट में कहा गया है कि विमान का पहला इंजन 25 फरवरी, 2019 को लगाया गया था, जबकि इसका दूसरा इंजन 27 मई, 2019 को लगाया गया था।

नागरिक उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने सोमवार को नेशनल असेंबली को बताया कि विमान हादसे की अंतरिम रिपोर्ट बुधवार को नेशनल असेंबली में पेश की जाएगी।

उन्होंने पुष्टि की कि उन्होंने रिपोर्ट प्राप्त कर ली है और इसे प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ भी साझा किया है।

खबरें और भी हैं...