Pakistan: अफगान तालिबान से अलग हुए गुट के नेता मुल्ला मोहम्मद रसूल को पाक ने रिहा किया, पांच साल से जेल में था बंद

August 18th, 2021

हाईलाइट

  • पाक सरकार ने अफगान तालिबान से अलग हुए गुट के नेता रसूल को रिहा किया
  • तालिबान के अफगानिस्तान पर नियंत्रण करने के कुछ दिनों बाद पाक ने ऐसा किया है
  • मुल्ला रसूल को 2016 के मार्च में बलूचिस्तान प्रांत में गिरफ्तार किया गया था

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान सरकार ने अफगान तालिबान से अलग हुए गुट के नेता मुल्ला मोहम्मद रसूल को रिहा कर दिया है। यह घटनाक्रम अशरफ गनी प्रशासन के पतन के बाद तालिबान के अफगानिस्तान पर नियंत्रण करने के कुछ दिनों बाद आया है। मुल्ला रसूल (56) को 2016 के मार्च में पाकिस्तान और अफगानिस्तान की सीमा पर बलूचिस्तान प्रांत में गिरफ्तार किया गया था। बुधवार को रिहा होने से पहले मुल्ला रसूल ने पांच साल पाकिस्तानी जेल में बिताए।

अपनी गिरफ्तारी के समय, मुल्ला मोहम्मद रसूल ने तालिबान के खिलाफ मोर्च खोल रखा था। रसूल ने  तत्कालीन तालिबान नेता मुल्ला मोहम्मद मंसूर के अधिकार को खारिज कर दिया था। नवंबर 2015 में पश्चिमी फराह प्रांत में तालिबान लड़ाकों की एक बैठक में रसूल को एक अलग ग्रुप का नेता चुना गया था। एक रिपोर्ट के अनुसार, रसूल का समर्थन करने वाले लड़ाकों ने मंसूर पर व्यक्तिगत लालच के लिए आंदोलन को हाईजैक करने और पाकिस्तान के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया था। 

रसूल और मंसूर दोनों ने तालिबान के फाउंडर मुल्ला उमर की मौत के बाद नेतृत्व के लिए अपना दावा पेश किया था। रसूल के नेतृत्व वाले अलग हुए गुट ने अफगान सरकार के साथ शांति वार्ता का विरोध किया था और यहां तक ​​कि मंसूर पर मुल्ला उमर की मौत को छुपाने का आरोप लगाया था। तालिबान के संस्थापक, उमर की कथित तौर पर 2013 में तपेदिक से मृत्यु हो गई थी। उसकी मृत्यु को दो साल तक गुप्त रखा गया था।

अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापसी के बाद मुल्ला मोहम्मद रसूल अफगान तालिबान में वापस आ सकता है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या उसकी रिहाई तालिबान को रसूल के नेतृत्व वाले अलग हुए गुट के साथ एकजुट करने का एक प्रयास है?