दैनिक भास्कर हिंदी: नॉर्थ कोरिया ने ध्वस्त की तीन न्यूक्लियर टनल

May 24th, 2018

हाईलाइट

  • नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग ने अपने वादे पर खरा उतरते हुए गुरुवार को न्यूक्लियर टेस्ट साइट पन्गी-री की तीन टनल को ध्वस्त कर दिया है।
  • टनल के अलावा आब्जर्वेशन बिल्डिंग और क्वाटरों को भी ध्वस्त किया गया है।
  • आखिरी बार सितंबर 2017 में इस साइट पर न्यूक्लियर टेस्ट किया गया था।
  • ये साइट प्योंग जोंग से करीब 370 किलोमीटर दूरी पर है।

डिजिटल डेस्क, सोल। नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग ने अपने वादे पर खरा उतरते हुए गुरुवार को न्यूक्लियर टेस्ट साइट पन्गी-री की तीन टनल को ध्वस्त कर दिया है। टनल के अलावा आब्जर्वेशन बिल्डिंग और क्वाटरों को भी ध्वस्त किया गया है। बता दें कि कुछ दिन पहले नॉर्थ कोरिया ने विदेशी मीडिया के सामने कहा था वह अपने न्यूक्लियर टेस्ट साइट को ध्वस्त कर देंगे।

2 दर्जन विदेशी पत्रकार बने गवाह
जानकारी के मुताबिक नॉर्थ कोरिया ने देश के उत्तर-पूर्व क्षेत्र की पहाड़ी में स्थित न्यूक्लियर टनल 2,3 और 4 को धवस्त किया है। इस दौरान नॉर्थ कोरिया ने करीब 2 दर्जन विदेशी पत्रकारों को भी आमंत्रित किया था। ये पत्रकार करीब 10 घंटों तक न्यूक्लियर टेस्ट साइट पर मौजूद रहे। नॉर्थ कोरिया ने 20 अप्रैल को ऐलान किया था कि उसे अब न्यूक्लियर हथियारों को टेस्ट करने की जरुरत नहीं है। नार्थ कोरिया ने कहा कि विदेशी मीडिया को बुलाना हमारी पारदर्शिता को सुनिश्चित करता है।

4 में से देखी 3 न्यूक्लियर टनल
पत्रकारों ने बताया कि धमाके से पहले उन्हें 4 में से 3 न्यूक्लियर टनल को अंदर से देखने के लिए बुलाया गया। इस टनल में विस्फोटक लगाए गए थे। विस्फोटकों के प्रकार और संख्या के बारे में उन्हें जानकारी नहीं दी गई। एक पत्रकार ने बताया कि विस्फोटक सॉकर बॉल जितने बड़े थे। करीब 35 मीटर की दूरी से इसे देखा जा सकता था।

2017 में आखिरी न्यूक्लियर टेस्ट
सभी पत्रकारों ने धमाकों को देखा और उसके बाद उन्हें इससे हुए नुकसान को देखने के लिए साइट पर जाने की अनुमति दी गई। नॉर्थ कोरिया ने इस न्यूक्लियर साइट पर 6 टेस्ट किए थे। आखिरी बार सितंबर 2017 में इस साइट पर न्यूक्लियर टेस्ट किया गया था। ये साइट प्योंग जोंग से करीब 370 किलोमीटर दूरी पर है। इस साइट पर चार टनल थी, हालांकि पत्रकारों ने केवल तीन ही टनल को ध्वस्त होते देखा।

चौथी टनल का 2006 में हुआ था इस्तेमाल
नॉर्थ कोरिया के अधिकारियों के मुताबिक चौथी टनल को न्यूक्लियर टेस्ट के लिए 2006 में इस्तेमाल किया गया था। इसके बाद इसे बंद कर दिया गया। पत्रकारों को दो दूसरी टनल भी दिखाई गई। अधिकारियों के मुताबिक इन टनल का कभी भी न्यूक्लियर टेस्ट के लिए इस्तेमाल नहीं किया गया।