दैनिक भास्कर हिंदी: पाकिस्तान में 11 आतंकवादियों की फांसी पर आर्मी चीफ ने लगाई मुहर

May 5th, 2018

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान में 11 आतंकवादियों की फांसी की सजा पर सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने मुहर लगा दी है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक इन आतंकवादियों को विशेष सैन्य अदालत ने 60 लोगों की हत्या करने के मामले में मौत की सजा सुनाई थी। मारे गए लोगों में 36 आम नागरिक, 24 सशस्त्र बलों के जवान, सीमांत सिपाहीं व पुलिस अधिकारी शामिल थे। इन आतंकिवादियों के हमले में 142 लोग घायल भी हुए थे। इन आतंकवादियों के पास से हथियार एवं गोलाबारुद भी बरामद हुए थे । उन पर विशेष सैन्य अदालत में मुकदमा चला था।

निचली अदालत में किया था गुनाह कबूल
पाकिस्तान सेना की मीडिया शाखा इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) ने कहा, ‘इन आतंकवादियों ने पाकिस्तान के सशस्त्रबलों पर हमला किया था। कानून प्रवर्तन एजेंसियों और मलकंद विश्वविद्यालय के अलावा खैबर-पख्तूनख्वा असेम्बली के सदस्य इमरान खान मोहमिंद समेत निर्दोष लोगों की हत्या में भी इनका हाथ था। वहीं आतंकवाद से जुड़े अन्य जघन्य अपराधों में भी ये लोग शामिल थे।’ बयान में आगे कहा गया कि दोषियों ने मजिस्ट्रेट और निचली अदालत में अपना गुनाह कबूल किया था जिसके बाद उन्हें मौत की सजा सुनाई गई थी। इससे पहले  मई 2017 में तहरीक-ए-तालिबान के 4 आतंकवादियों को भी फांसी दी गई थी। ये आतंकी सैदू शरीफ हवाई अड्डे पर हमला करने, निर्दोष नागरिकों की हत्या करने, सशस्त्र बलों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों पर हमला करने के दोषी पाए गए थे।

कार्रवाई के पीछे अमेरिका का दबाव
पाकिस्तान की आतंकवादियों पर की गई इस कार्रवाई के पीछे अमेरिका के दबाव को माना जा रहा है। कुछ समय पहले अमेरिकी सेना के वरिष्ठ कमांडर ने कहा था कि पाकिस्तान ने तालिबान और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ अभी तक निर्णायक कार्रवाई नहीं की है। ऐसे में पाकिस्तान को अमेरिकी सुरक्षा सहायता पर रोक जारी रहेगी। बता दें कि पिछले महीने की शुरुआत में अमेरिका ने आतंकी संगठनों को पनाह देने को लेकर पाकिस्तान को दो अरब डॉलर (करीब 13049 करोड़ रुपये) की सुरक्षा सहायता रोक दी थी।