दैनिक भास्कर हिंदी: टेरर वॉच लिस्ट: पाकिस्तान ने हटाए हजारों आतंकियों के नाम, मुंबई हमले का मास्टरमाइंड भी शामिल

April 21st, 2020

हाईलाइट

  • पाकिस्तान ने अपनी टेटर वॉच लिस्ट से हटाए हजारों आतंकियों के नाम
  • 2008 में मुंबई हमले का मास्टर माइंड जकी-उर-रहमान लखवी भी शामिल
  • टेरर वॉच लिस्ट में 7600 आतंकियों के नाम थे, पिछले 18 महीनों में घटकर 3800 हुए

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है वहीं पाकिस्तान इस संकट के दौर में भी नापाक हरकत करने से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान ने अपनी आतंकवादी निगरानी सूची (टेटर वॉच लिस्ट) से हजारों आतंकियों के नाम हटा दिए हैं। इनमें 2008 में मुंबई हमले के मास्टर माइंड और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकी-उर-रहमान लखवी का नाम भी शामिल है। निगरानी सूची से आतंकियों के नाम हटाए जाने की जानकारी न्यूयॉर्क में स्थित नियामक प्रौद्योगिकी कंपनी कास्टेलम डॉट एएल ने दी है।

इमरान खान ने 1800 आतंकियों के नाम सूची से हटाए 
पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार ने करीब 1800 आतंकियों को चुपके से निगरानी सूची से हटा दिया है। जिसमें मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड जकी-उर-रहमान भी शामिल है। पाकिस्तान ने ऐसे समय पर यह कदम उठाया है जब वैश्विक एंटी मनी लॉन्ड्रिंग संस्था वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (FATF) ने उसे आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए एक नई समयसीमा दी है। 

लिस्ट में 7600 आतंकियों मे से 3800 बचे
पाकिस्तान ने फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) से बचने के लिए आतंकवादी न‍िगरानी सूची से पिछले 18 महीने में 3800 आतंकवादियों के नाम हटा दिए हैं। पीएम इमरान खान ने भी सत्ता में आने के बाद से अभी तक 1800 आतंकियों के नाम इस लिस्ट से हटाए हैं। इमरान ने ही मुंबई हमले के मास्टरमाइंड का नाम लिस्ट से बाहर किया है। FATF के मुताबिक, अक्टूबर 2018 तक इस वॉच लिस्ट में कुल 7600 आतंकियों के नाम थे जो अब घटकर 3800 रह गए हैं। इस साल मार्च की शुरुआत से अब तक में करीब 1800 आतंकियों के नाम हटाए जा चुके हैं। इन नामों को हटाने का कोई कारण भी नहीं बताया गया है।  

पाकिस्तान: 'टांगे भी ढक कर रखें, नहीं तो नीचे से घुस सकता है कोरोना वायरस', देखें वीडियो

पेरिस स्थित FATF ने पाकिस्‍तान को 27 बिंदुओं पर ऐक्‍शन लेने के लिए जून तक का समय दिया है। FATF ने फरवरी में कहा था, उसकी ओर से दिए गए 27 कार्यों में पाकिस्‍तान 13 को पूरा नहीं कर पाया है। जबकि ये 13 कार्रवाइयां अधिकतर आतंकी फंडिंग से संबंधित हैं। अब माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने ऐसा कदम एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से बचने के लिए उठाया है।

खबरें और भी हैं...