रूस-यूक्रेन तनाव: आत्मसमर्पण के बारे में फर्जी खबरों के बाद रूस की संचार बंद करने की योजना- यूक्रेन

March 2nd, 2022

हाईलाइट

  • यूक्रेन के हित में कोई आत्मसमर्पण नहीं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कीव टीवी टॉवर के मिसाइल से टकराने से पहले ही यूक्रेन की सुरक्षा सेवा ने कहा था कि अगर संचार और यह जांचने की क्षमता खो जाती है कि जानकारी विश्वसनीय है या नहीं, तो यूक्रेन के हित में कोई आत्मसमर्पण नहीं हो सकता।

शुरुआत में उन्होंने संचार को डिस्कनेक्ट करने की योजना बनाई। उसके बाद बहुत सारी फर्जी रिपोर्टे होंगी कि यूक्रेनी सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व आत्मसमर्पण करने के लिए सहमत हो गए हैं। यूक्रेन के रक्षा मंत्री अलेक्सी रेजनिकोव ने चेतावनी दी थी, इस नकली समाचार की तथाकथित पुष्टि कथित रूप से हस्ताक्षरित दस्तावेजों के साथ-साथ फिल्माए गए नकली वीडियो के जरिए बांटी जाएगी। रेजनिकोव ने चेतावनी दी कि दुश्मन देश सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व के कथित आत्मसमर्पण के बारे में दुष्प्रचार तैयार कर रहा है।

रिपोर्ट के मुतबिक, रेजनिकोव ने कहा, हमारी जानकारी के अनुसार, रूसी कब्जे वाले निकट भविष्य में बड़े पैमाने पर सूचनात्मक और मनोवैज्ञानिक ऑपरेशन शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं। इसका लक्ष्य झूठ का उपयोग करके यूक्रेनी लोगों और यूक्रेनी सेना के प्रतिरोध को तोड़ना है। मंत्री ने सिटी सेंटर से अपनी एक तस्वीर पोस्ट की, जिसमें लोगों से फर्जी खबरों पर विश्वास न करने और हर किसी को चेतावनी देने का आग्रह किया। देश का नेतृत्व राजधानी में कायम है और लगातार काम कर रहा है।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार दोपहर (स्थानीय समयानुसार) कीव के 1,300 फुट के टीवी टॉवर के आसपास धमाका हुआ, इसके कुछ ही घंटों बाद रूस ने नागरिकों को जगह खाली करने के लिए कहा, क्योंकि वह यूक्रेनी राजधानी में रणनीतिक लक्ष्यों पर बमबारी शुरू करने वाला था। मध्य कीव से करीब तीन मील की दूरी पर स्थानीय समयानुसार शाम करीब साढ़े पांच बजे टावर के निचले हिस्से के पास कम से कम दो बड़े विस्फोट देखे गए। यह तुरंत स्पष्ट नहीं था कि क्या टावर ही हमलों का निशाना था या आस-पास की इमारतें भी। रिपोर्ट में कहा गया है कि टावर खड़ा रहा, लेकिन कई राज्यों में टीवी प्रसारण बंद हो गया। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, इससे यह आशंका बढ़ गई कि खार्किव, मारियुपोल और खेरसॉन शहरों पर दिन में अंधाधुंध गोलाबारी होने के बाद कीव भारी बमबारी की चपेट में आने वाला था।

 

(आईएएनएस)