दैनिक भास्कर हिंदी: अफगानिस्तान पर महत्वपूर्ण बैठक के लिए रूस ने भारत को नहीं किया आमंत्रित; चीन, पाकिस्तान, अमेरिका होंगे शामिल

August 6th, 2021

हाईलाइट

  • अफगानिस्तान पर एक महत्वपूर्ण बैठक
  • रूस ने भारत को नहीं किया आमंत्रित
  • अमेरिकी सैनिकों के वापस जाने के बाद तालिबान तेजी से बढ़ा

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। रूस ने भारत को अफगानिस्तान पर एक महत्वपूर्ण बैठक के लिए आमंत्रित नहीं किया है जो उसने कतर में बुलाई है। एक्सटेंडेड ट्रोइका टाइटल वाली बैठक 11 अगस्त को होगी। इस फ्रेमवर्क के तहत वार्ता पहले 18 मार्च और 30 अप्रैल को हुई थी। अफगानिस्तान में तेजी से विकसित हो रहे राजनीतिक और सुरक्षा हालात के बीच होने वाली इस बैठक में रूस के अलावा चीन, पाकिस्तान और अमेरिका के भी शामिल होने की उम्मीद है।

अमेरिकी सैनिकों के अफगानिस्तान को छोड़कर जाने के बाद पैदा हुई राजनीतिक उथल-पुथल तालिबान तेजी से बढ़ रहा है। इसी को देखते हुए ये बैठक बुलाई गई है। रूस ने हिंसा को रोकने और अफगान शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए अफगानिस्तान में सभी प्रमुख हितधारकों तक पहुंचने के प्रयास तेज कर दिए हैं। अफगानिस्तान में राष्ट्रीय सुलह की प्रक्रिया के लिए शांति लाने और परिस्थितियों का निर्माण करने के लिए  रूस वार्ता का 'मॉस्को फॉर्मेट' आयोजित करता रहा है।

गुरुवार को, भारतीय विदेश मंत्रालय से इस महत्वपूर्ण बैठक में रूस की ओर से भारत को आमंत्रित नहीं करने के बारे में पूछा गया, तो विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि रूस के साथ अफगानिस्तान को लेकर भारत की नियमित रूप से बात हो रही है।

ऐसी अटकलें थीं कि भारत को इस बैठक में आमंत्रित किया जाएगा जब रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने पिछले महीने कहा था कि रूस भारत और अन्य देशों के साथ काम करना जारी रखेगा जो अफगानिस्तान में स्थिति को प्रभावित कर सकते हैं। लावरोव ने कथित तौर पर कहा था, 'हम अमेरिकियों के साथ एक्सटेंडेड ट्रोइका फॉर्मेट के साथ-साथ अन्य सभी देशों के साथ काम करना जारी रखेंगे जो अफगानिस्तान में स्थिति को प्रभावित कर सकते हैं, जिसमें मध्य एशिया, भारत, ईरान और अमेरिका के हमारे सहयोगी शामिल हैं। 

जब से अमेरिका ने 1 मई को देश से अपने सैनिकों को वापस लेना शुरू किया, तालिबान व्यापक हिंसा का सहारा लेकर पूरे अफगानिस्तान में तेजी से आगे बढ़ रहा है। अमेरिका पहले ही अपने अधिकांश बलों को वापस बुला चुका है और 31 अगस्त तक ड्रॉडाउन को पूरा करना चाहता है। अफगानिस्तान की शांति और स्थिरता में भारत एक प्रमुख हितधारक रहा है। भारत ने युद्ध से तबाह देश में सहायता और पुनर्निर्माण गतिविधियों में पहले ही लगभग 3 बिलियन डॉलर का निवेश किया है।

भारत एक राष्ट्रीय शांति और सुलह प्रक्रिया का भी समर्थन करता रहा है जो अफगान-नेतृत्व वाली, अफगान-स्वामित्व वाली और अफगान-नियंत्रित है।

खबरें और भी हैं...