comScore

ना'पाक' हरकत: इस्लामाबाद में आईएसआई एजेंट ने बाइक से भारतीय राजनयिक अहलूवालिया की कार का पीछा किया, वीडियो वायरल


हाईलाइट

  • भारतीय उच्चायोग के सदस्यों को साजिश की तहत परेशान करने की कोशिश
  • भारतीय दूतावास से कई अधिकारियों को भारत भेजने की तैयारी कर रहा पाक
  • अपने दूतावास के दो अफसरों को जासूसी करते पकड़े जाने के बाद बोखलाया पाक

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में भारतीय दूतावास के एक्टिंग हाईकमिश्नर गौरव अहलूवालिया को आईएसआई द्वारा परेशान करने का मामला सामने आया है। न्यूज एजेंसी एएनआई द्वारा जारी एक वीडियो में में बताया गया कि आईएसआई के एजेंट ने घर जाते वक्त अहलूवालिया की कार का पीछा किया। यह वीडियो 31 मई का बताया जा रहा है। 

न्यूज एजेंसी के अनुसार आईएसआई के एजेंट ने घर जाते वक्त अहलूवालिया की कार का पीछा किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अहलूवालिया के घर के बाहर भी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के कई एजेंट कार और बाइकों पर नजर आए। पिछले कुछ समय से पाकिस्तान में लगातार भारतीय उच्चायोग के सदस्यों को साजिश की तहत परेशान करने की कोशिश की जा रही है।

पहले भी कर चुके हैं परेशान
यह इस तरह का पहला मामला नहीं है, जब इस्लामाबाद में तैनात शीर्ष भारतीय राजनयिक गौरव अहलूवालिया को परेशान किया गया हो। इससे पहले भी कई बार भारतीय राजनयिक गौरव अहलूवालिया को परेशान किए जाने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। पहले भी कई बार आईएसआई के लोगों के जरिए बाइक और कार से अहलूवालिया का पीछा किया जा चुका है। इस्लामाबाद में स्थित भारतीय मिशन इसको लेकर चिंता भी जता चुका है।

भारतीय दूतावास से कई अधिकारियों को भारत भेजने की तैयारी कर रहा पाक
लगातार हो रही ऐसी घटनाओं को लेकर भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर इसकी जांच कराने की मांग की है। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात की भी चर्चा चल रही है कि पाकिस्तान भारतीय उच्चायोग से कई अधिकारियों को वापस भारत भेजने की तैयारी कर रहा है। 

पाक दूतावास के दो अफसरों को जासूसी करते पकड़े जाने के बाद बोखलाया पाक 
31 मई को दिल्ली पुलिस ने पाकिस्तानी दूतावास के दो अफसरों को जासूसी करते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। इन्हें तब गिरफ्तार किया गया था, जब वे एक व्यक्ति को पैसों का लालच देकर सुरक्षा से जुड़े दस्तावेज ले रहे थे। दोनों जासूस दूतावास में वीजा सहायक के तौर पर काम कर रहे थे। ISI के लिए जासूसी करते पकड़े जाने पर उन्होंने खुद को भारतीय नागरिक साबित करने की कोशिश की। उनके पास फर्जी आधार कार्ड, भारतीय मुद्रा और आईफोन मिले। इन दोनों अफसरों को अगले ही दिन पाकिस्तान वापस भेज दिया गया था।

दोनों ही ISI के एजेंट थे
पाकिस्तान एम्बेसी के वीजा सेक्शन में तैनात इन दोनों अफसरों के नाम आबिद हुसैन और ताहिर खान थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आबिद ने अपने हैंडलर्स तक सेना और हथियारों के मूवमेंट की जानकारी पहुंचाने की कोशिश की थी। दोनों ही मुख्य तौर पर आईएसआई के एजेंट थे। इनके पास से कई जाली दस्तावेज बरामद किए गए थे। इनका इस्तेमाल ये भारत में घूमने और सूचनाएं जुटाने के लिए करते थे।


 

कमेंट करें
6qUTL