दैनिक भास्कर हिंदी: ट्रंप ने कहा- टैरिफ से बचने के लिए भारत हमसे व्यापार समझौता करना चाहता है

October 1st, 2018

हाईलाइट

  • राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा कि अमेरिका के साथ भारत व्यापार समझौता करना चाहता है।
  • अमेरिका के सहायक व्यापार प्रतिनिधि मार्क लिनस्कॉट के भारत दौरे के बाद यह दूसरा मौका है जब ट्रंप ने इस तरह की टिप्पणी की है।
  • ट्रंप ने कहा भारत चाहता है कि वह उनपर टैरिफ न लगाए।

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा कि अमेरिका के साथ भारत व्यापार समझौता करना चाहता है क्योंकि वह नहीं चाहता कि अमेरिका उनके उत्पादों पर टैरिफ लगाए। अमेरिका के सहायक व्यापार प्रतिनिधि मार्क लिनस्कॉट के भारत दौरे के बाद यह दूसरा मौका है जब ट्रंप ने इस तरह की टिप्पणी की है। मार्क लिनस्कॉट जब भारत आए थे तब उन्होंने यहां के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ द्विपक्षीय व्यापार और दोनों देशों के बीच एक संभावित व्यापार समझौते को लेकर चर्चा की थी।

ट्रंप अकसर भारत पर अमेरिकी उत्पादों पर 100 प्रतिशत टैरिफ लगाने का आरोप लगाते हैं। ट्रंप ने कहा "हमारे पास एक देश है, भारत को ले लीजिए जिनसे अच्छे संबंध हैं। वे अब एक सौदा करना चाहते हैं क्योंकि वे नहीं चाहते हैं कि मैं जो करना चाहता हूं, वो करूं। इसलिए, वे (भारतीय) हमें कॉल करते हैं। वे किसी और के साथ सौदा नहीं करना चाहते।"  

इससे पहले ट्रंप ने कुछ हफ्ते पहले सितंबर में भी कहा था कि अमेरिका के कड़े रुख के बावजूद भारत हमारे साथ व्यापार समझौता चाहता है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा था "भारत को ले लीजिए। आप फ्री ट्रेड के बारे में बात करते हैं। तो, मान लें कि भारत हमारे उत्पादों पर 60 प्रतिशत टैरिफ चार्ज करते हैं। लेकिन जब वैसे ही उत्पाद भारत हमारे देश भेजता है तो हम उनपर किसी तरह का टैरिफ नहीं लगाते। तो अब मैं 25 प्रतिशत या 20 या 10 या कुछ भी चार्ज करना चाहता हूं।" 

ट्रम्प ने शनिवार को भारत के साथ बातचीत का जिक्र करते हुए कहा, "आप क्या सोचते हैं? यह मुफ़्त व्यापार नहीं है। हमें यह पसंद नहीं है। मैं कहता हूं, ये लोग कहां से आ रहे हैं? तो, इसके बारे में सोचो। आपको नहीं पता कि यह कितना मुश्किल है।" ट्रंप ने कहा कि वह भारत का नाम सिर्फ उदाहरण के रूप में ले रहे हैं। वह और भी कई देशों का उदाहरण दे सकते हैं, जो अमेरिका के प्रति 'कठोर' रवैया अपनाते हैं।  

खबरें और भी हैं...