comScore

WHO ने दी चेतावनी, कहा- कभी खत्म नहीं हो सकता कोरोना वायरस


हाईलाइट

  • एचआईवी संक्रमण की तरह कोविड-19 भी हमेशा रहने वाला वायरस हो सकता है
  • कोई भी नहीं बता सकता है कि ये बीमारी कब खत्म होगी- डॉ. माइकल जे रियान

डिजिटल डेस्क, जेनेवा। कोरोना वायरस दुनियाभर में कहर बरपा रहा है। हर देश अपने-अपने स्तर पर इससे मुकाबला कर रहा है। इसके बावजूद अबतक इस जानलेवा वायरस पर काबू नहीं पाया जा सका। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल जे रियान ने चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि एचआईवी संक्रमण की तरह कोविड-19 भी हमेशा रहने वाला वायरस हो सकता है। 

प्रतिबंध हटाना फिलहाल ठीक नहीं है
रियान ने कहा कि कोरोना स्थिर वायरस बन सकता है। यह कभी खत्म नहीं हो। एचआईवी भी अबतक खत्म नहीं हुआ है। रियान ने कहा कि इन दोनों बीमारियों की तुलना नहीं कर रहें, लेकिन हमें व्यावहारिक होना चाहिए। उन्होंने कहा, कोई भी नहीं बता सकता है कि ये बीमारी कब खत्म होगी। कोविड को रोकने के लिए लगे प्रतिबंध को हटाना फिलहाल ठीक नहीं है, क्योंकि मामले लगातार बढ़ रहे हैं। अगर लॉकडाउन हटा तो वायरस तेजी से फैलेगा। 

हमारा लक्ष्य वायरस को खत्म करना
डॉ. माइकल जे रियान ने कहा कि कोरोना संक्रमितों की संख्या न्यूनतम स्तर तक पहुंचने पर ही लॉकडाउन खोलना चाहिए। इससे वायरस के फैलने का खतरा कम होगा। अगर ऐसी परिस्थितियों में प्रतिबंध हटाया गया तो कोरोना वायरस तेजी से फैल सकता है। उन्होंने कहा, हमारा लक्ष्य वायरस को खत्म करना है। इसके लिए वैक्सीन बनाना होगा। इसे हम सबको साथ मिलकर बनाना और सबको इस्तेमाल करना है। 

डेविड नाबारो के बयान ने बढ़ा दी थी चिंता
इससे पहले भी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन से जुड़े एक डॉक्टर डेविड नाबारो के बयान ने दुनिया की चिंता बढ़ा दी थी। नाबारो ने कहा था कि हो सकता है कोरोनावायरस की वैक्सीन कभी इस दुनिया में न आ पाए। उन्होंने कहा था, 'हम दावे के साथ नहीं कह सकते हैं कि एक वैक्सीन आ ही जाएगा। जब तक वैक्सीन नहीं बन जाता है हमें खुद को बचाकर रखना होगा। हम एक बायोलॉजिकल सिस्टिम से जूझ रहे हैं। हम किसी मैकेनिकल सिस्टम से नहीं डील कर रहे हैं। यह वास्तव में इस बात पर निर्भर करता है कि शरीर किस तरह प्रतक्रिया देता है।'
 

कमेंट करें
wW4kV