comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Cyclone Amphan Update: बंगाल-ओडिशा में सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ का कोहराम, 2 माह की बच्ची सहित 12 की मौत


हाईलाइट

  • अम्फान के कारण बंगाल और ओडिशा में हाई अलर्ट जारी
  • 14 लाख से ज्यादा लोगों को किया गया शिफ्ट

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में कहर बरपा रहा है। इस चक्रवाती तूफान की चपेट में आने से अब तक 12 लोगों की जान जा चुकी है। इसमें 2 माह की मासूम भी शामिल है। बंगाल और ओडिशा में तूफानी हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हो रही है। दोनों ही राज्यों के कई इलाकों में पेड़ और दीवारें गिर गई हैं। कई इलाकों में बिजली भी गुल हो गई है। वहीं पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा है कि ऐसा तूफान 283 साल पहले 1737 में आया था। उन्होंने बताया कि उनके पास 10 से 12 लोगों की मौत की सूचना है। दोनों राज्यों में बुधवार को 190 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाले विकराल चक्रवात अम्फान के कारण भारी तबाही हुई। 

बशीरहाट के उप-मंडल अधिकारी (SDO) बिबेक वासमे की शाम 7 बजे के रिपोर्ट के मुताबिक, West Bengal के उत्तर 24 परगना जिले में अम्फान चक्रवात के कारण 5500 घरों को नुकसान हुआ है। इस आपदा में दो लोगों की मौत हुई है, जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। वहीं ओडिशा में तूफान के कारण दीवार गिरने से एक 2 माह बी ​बच्ची की मौत हो गई।  

106 किमी प्रति घंटे की स्पीड से हवाएं चल रही हैं 
NDRF ने बुधवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि पश्चिम बंगाल में सुपर साइक्लोन अम्फान का लैंडफाल शुरू हो गया है। हमारी नजर लगातार इस पर बनी हुई है। लैंडफाल के बाद हमारा काम शुरू होता है। हमारी नजर बंगाल और ओडिशा दोनों जगह बनी हुई है। ओडिशा में 20 टीमें और बंगाल में 19 टीमें तैनात की गई हैं। सुपर साइक्लोन अम्फान पश्चिम बंगाल में सुंदरवन के पास पहुंच रहा है। तूफान की वजह से ओडिशा में करीब 106 किमी प्रति घंटे की स्पीड से हवाएं चल रही हैं। तूफान अम्फान के प्रभाव के कारण पश्चिम बंगाल के दीघा और ओडिशा के पारादीप तट पर बुधवार सुबह से तेज हवाएं चल रही हैं और बारिश भी हुई। तूफान अम्फान सुंदरबन के करीब से बंगाल-बांग्लादेश के तटीय इलाके यानी (पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप समूह के बीच से होकर गुजरेगा।

तेज हवाओं और भारी बारिश ने हावड़ा ब्रिज पर पुलिस बैरिकेडिंग को क्षतिग्रस्त कर दिया।

पश्चिम बंगाल: हावड़ा के एक स्कूल की छत को आज तेज हवाओं ने उड़ा दिया।

कमेंट करें
7idoO
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।