comScore

Railway Budget 2020: रेलवे के लिए हुआ ऐलान- तेजस ट्रेन की संख्या बढ़ाई जाएगी

February 02nd, 2020 08:51 IST

हाईलाइट

  • वित्तमंत्री सीतारमण ने दूसरी बार आम बजट पेश किया
  • तेजस की तरह और ट्रेनें चलाई जाएंगी
  • जल विकास मार्ग को बढ़ाया जाएगा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज वित्तवर्ष 2020-21 का बजट पेश किया। इस बजट में सरकार ने रेलवे के लिए कई बड़े ऐलान किए। वित्तमंत्री ने कहा, रेलवे की कमाई काफी कम है। इस लिए सौर ऊर्जा तैयार करने के लिए रेलवे की जमीन का इस्तेमाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 500 रेलने स्टेशनों पर वाई-फाई की सुविधा है। देशभर में मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग को बंद कर दिया गया। 

वित्तमंत्री ने रेलवे के लिए की ये घोषणाएं:

  • मॉर्डन रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डे, बस स्टेशन और लॉजिस्टिक सेंटर्स बनाए जाएंगे।
  • दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे, चेन्नई-बेंगलुरु एक्सप्रेस-वे को जल्द पूरा किया जाएगा।
  • 24 हजार किमी लंबी रेल लाइन को इलेक्ट्रिक बनाया जाएगा।

Budget 2020: मोदी सरकार ने किसानों को धन लक्ष्मी, किसान रेल समेत दिए ये 16 तोहफे

  • तेजस ट्रेन की संख्या बढ़ाई जाएगी और टूरिस्ट जगहों से जोड़ा जाएगा।
  • मुंबई-अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन का काम जल्द पूरा किया जाएगा।
  • ट्रांसपोर्ट में 1.70 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। 
  • पीपीपी मॉडल से रेलवे स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा।
  • रेलवे पटरियों के किनारे सोलर पावर ग्रिड बनाया जाएगा।
  • रेलने की जमीन पर सौर ऊर्जा प्लांट लगाए जाएंगे। 
  • जल विकास मार्ग को बढ़ाया जाएगा, इस मार्ग को असम तक बढ़ाने की योजना है।

बीते वर्ष रेलवे बजट में क्या था?

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर को 2018-2030 के बीच 50 लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी। रेलवे के क्षेत्र में तेजी से विकास और यात्री माल ढुलाई सेवाओं के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (PPP) का उपयोग किया जाएगा। साल 2019-20 के बजट में 300 किलोमीटर मेट्रो रेल परियोजना को मंजूरी मिली है। इस साल 657 किलोमीटर नए मेट्रो रेल नेटवर्क पर संचालन शुरू हो जाएगा। रेलवे में निजी भागीदारी के साथ सरकार देश में पहली बार प्राइवेट ट्रेनों का संचालन शुरू करने जा रही है।

उन्होंने कहा था, 'रेलवे में निजी भागीदारी के साथ सरकार देश में पहली बार प्राइवेट ट्रेनों का संचालन शुरू करेगी। सरकार की 100 दिन की योजना के तहत दो ट्रेनें संचालन के लिए आईआरसीटीसी को दी जाएंगी। इसके जरिए ट्रेन यात्रियों को और प्रीमियम सुविधाएं उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाएगा।' वित्तमंत्री सीतारमण ने कहा था कि रेलवे को एसपीवी के जरिये उपनगरीय रेल नेटवर्क में अधिक से अधिक निवेश के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। हम न केवल तेज रफ्तार ट्रेन चलाने की दिशा में काम कर रहे हैं, बल्कि ट्रैक और सिग्नलिंक के आधुनिकीकरण पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। 

सीतारमण ने कहा था कि इंडियन रेलवे स्टेशन डेवेलपमेंट कॉरपोरेशन (IRSDC) वर्तमान में मध्य प्रदेश के हबीबगंज स्टेशन और गुजरात के गांधी नगर स्टेशन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकसित कर रहा है। इस बार भी हमारा फोकस सुरक्षित रेल यात्रा पर होगा। यात्रियों की सुरक्षा के लिए स्टेशनों और ट्रेनों के अंदर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत 100 करोड़ रुपये से भी कम लागत में देश में बनाई गई वंदे भारत एक्सप्रेस या ट्रेन 18 इंडियन रेलवे की फ्लैगशिप ट्रेन में शामिल है। 

कमेंट करें
ATqVs